CCTV

    ठाणे. ठाणे पुलिस ने यातायात में सुधार और अपराध पर अंकुश लगाने के लिए मुंबई (Mumbai) की तर्ज पर ठाणे शहर (Thane City) में 150 अत्याधुनिक सीसीटीवी कैमरे (CCTV Cameras) लगाने का फैसला किया है। इनमें से वाहनों के नंबरों को पहचाने वाले 128  एएनपीआर कैमरे (ANPR Cameras) और व्यक्तियों के फोटो कैप्चर करने वाले 22 पीटीजेड कैमरे शामिल होंगे। ठाणे पुलिस (Thane Police) ने इस संबंध में गृह विभाग को प्रस्ताव भेजा है। प्रस्ताव को मंजूरी मिलने के बाद डेढ़ से दो महीने में कैमरे चालू हो जाएंगे।

    उल्लेखनीय है कि महानगरपालिका ने ठाणे शहर में 1,400 सीसीटीवी कैमरे लगाए हैं। इनमें से कई कैमरे घटिया स्तर के हैं, जिनसे फिल्मांकन स्पष्ट तरीके नहीं होता है। इतना ही नहीं इनमें से कई कैमरे बंद हैं। इसलिए पुलिस इन सीसीटीवी कैमरों का इस्तेमाल कानून-व्यवस्था बनाए रखने के लिए नहीं करती है। कुछ महीने पहले ठाणे पुलिस ने जिले के पालक मंत्री एकनाथ शिंदे के साथ बैठक में इस मुद्दे को उठाया था। इसके बाद पालक मंत्री शिंदे ने शहर में अत्याधुनिक सीसीटीवी कैमरे लगाने के लिए शहरी विकास विभाग के माध्यम से करीब तीन करोड़ रुपए की राशि स्वीकृत की थी। 

    ठाणे पुलिस ने गृह विभाग को भेजा प्रस्ताव

    ठाणे पुलिस ने अब इस संबंध में गृह विभाग को प्रस्ताव भेजा है। एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि गृह विभाग की मंजूरी से प्रशासन महज डेढ़ से दो महीने में कैमरे लगा देगा। ठाणे यातायात पुलिस उपायुक्त बालासाहेब पाटिल ने बताया कि इनमें से 128 कैमरे एएनपीआर और 22 कैमरे पीटीजेड प्रारूप में होंगे। 150 कैमरों में से 128 ऑटोमेटिक नंबर प्लेट रिकग्निशन (एएनपीआर) तकनीक से लैस होंगे। एएनपीआर कैमरे के जरिए व्यक्ति का वाहन नंबर ट्रैफिक पुलिस को दिया जाएगा। इससे पुलिस को नियम तोडऩे वालों के खिलाफ कार्रवाई करने में आसानी होगी। शेष 22 कैमरे ‘पैन, टिल्ट एंड जूम’ (पीटीजेड) के रूप में हैं और किसी विशेष व्यक्ति की सभी गतिविधियों को उस पर ध्यान केंद्रित करके कैप्चर कर सकते हैं।