जिलानी इमारत हादसे में मृतकों का आंकड़ा पहुंचा 24

  • 40 घण्टों के बाद भी राहत बचाव कार्य जारी 
  • समूचे क्षेत्र में पसरा मातम

भिवंडी. मनपा प्रभाग क्रमांक 3 क्षेत्र अंतर्गत धामनकर नाका पटेल कंपाउंड में सोमवार रात 3:15 बजे जमींदोज हुई 3 मंजिला जिलानी इमारत हादसे में मृतकों की संख्या बढ़कर 24 हो गई है. घटना के 40 घंटे के उपरांत भी एनडीआरएफ व मनपा आपत्तिव्यवस्थापन की टीम द्वारा राहत बचाव कार्य शुरू है और इमारत के मलबे में करीब 20 लोगों के दबे होने की आशंका स्थानीय लोगों द्वारा व्यक्त की जा रही है.  उक्त घटना से समूचे क्षेत्र में मातम पसरा हुआ है. बचाव राहत कार्य में जुटी टीम मलबे में दबे लोगों की जान बचाने का हर संभव प्रयास कर रहे हैं. घटनास्थल पर लोगों की भीड़ नियंत्रण हेतु भारी पुलिस बल की तैनाती पुलिस उपायुक्त राजकुमार शिंदे द्वारा की गई है.

घटनास्थल पर मौजूद एनडीआरएफ, टीडीआरएफ व भिवंडी मनपा आपत्तिव्यवस्थापन की टीम ने कड़ी मेहनत से करीब 25 लोगों को मलबे से सुरक्षित निकाले जाने में कामयाबी हासिल की है. इमारत जमींदोज हुए करीब 40 घण्टों के बाद भी राहत बचाव कार्य तेजी से जारी है. बचाव कार्य में जुटी टीमों द्वारा मलबे को हटाए जाने हेतु जीसीबी, पोकलेन आदि सहित मजदूरों का सहारा लिया जा रहा है. जमींदोज इमारत की तीसरी मंजिल की किचन में रखा गैस सिलेंडर सुरक्षित तरीके से मनपा कर्मी द्वारा सीढ़ियों की मदद से नीचे उतार लिया गया, जिससे अनहोनी होने से टल गई.

सोमवार को इमारत जमींदोज होने के उपरांत राहत कार्यों में जुटी टीम नें रात्रि 10 बजे तक 13 शव मलबे से निकाले जाने में सफलता हासिल की थी जो मंगलवार रात्रि करीब 8 बजे तक बढ़कर मृतकों का आंकड़ा 24 पहुंच चुका है, जिसमें 2 शवों की शिनाख्त नहीं हो सकी है. आईजीएम अस्पताल में पोस्टमार्टम के उपरांत शवों को परिजनों को सौंप दिया गया है. 

मंगलवार को मिले 11 शव 

इमारत हादसे में सोमवार को मलबे से 13 शव निकाले गए थे. मंगलवार को 11 और शव मिलने से आंकड़ा 24 हो गया है.  मगलवार को मिले 11 नए शवों में नजमा कंकाली (61),  अफसाना अंसारी (15), अमान शेख (22),  शाहिद खान (23), असद खान (3),  नसीमा शेख (32), आरिफ शेख (35), निदा शेख  (8), साबिया शेख (10), दो अज्ञात शवों का समावेश है. 

घटनास्थल के आसपास मातम पसरा हुआ है मृतकों के परिजन बिलखते हुए शवों को कब्रिस्तान में दफनाने की प्रक्रिया में जुटे हैं.

पूरा परिवार हुआ हादसे का शिकार

उक्त इमारत की तीसरी मंजिल पर रहने वाले जुबेर कुरेशी का पूरा परिवार पत्नी,2 बच्चे इमारत में दब गए.कड़ी मशक्कत के बाद शवों को मलबे से निकाला गया.उक्त दर्दनाक दृश्य देखकर मौजुद लोगों की रुलाई फूट पड़ी. 

जान जोखिम में डालकर बचाई परिजनों सहित अन्य पड़ोसियों की जान

इमारत में रहने वाले टेलर इब्राहिम अंसारी इमारत खिसकने की चीख पुकार से जाग गए और जान की परवाह न करते हुए अपने पिता बिलाल अंसारी,मां,बच्चे व पत्नी सबीना सहित पड़ोस में रहने वाले अन्य 5 लोगों को सहारा देकर बाहर निकालकर देवदूत बन बैठे हैं.

5 सदस्यों के परिवार में सिर्फ बेटा बचा जिंदा

हादसे में दूसरी मंजिल निवासी अंसारी परिवार में मां, पत्नी, बेटी आदि 4 महिलाओं की मलबे में दबकर दर्दनाक मौत हो गई केवल 25 वर्षीय पुत्र आलम बचा है जिस पर गमों का पहाड़ टूट पड़ा है. 

मलबे को हटाने में हो रही भारी कठिनाई

जमींदोज हुई जिलानी इमारत के आसपास जेसीबी, पोकलेन सहित अन्य मशीनों की आने जाने की समुचित जगह न होने से राहत कार्यों को अंजाम देने में बचाव कर्मियों को काफी कठिनाई झेलनी पड़ रही है. घटनास्थल पर जेसीबी, पोकलेन ठीक तरीके से नहीं पहुंचने की वजह से मलबा हटाने और बाहर ले जाने में भारी कठिनाई हो रही है.

3 मंजिला इमारत गिरकर एक दूसरे पर बैठकर चिपक सी गई है. छत, दीवाल आदि काटकर निकालने में बचाव कर्मियों को बड़ी दिक्कत झेलनी पड़ रही है. बचाव कर्मी जमीन में दबे हुए लोगों की जान बचाने की खातिर संभल-संभल कर गिरे हुए मलबे की खुदाई कर रहे हैं और अंदर घुसकर शव को बाहर निकाला जा रहा है. ऐसा प्रतीत होता है कि मलबा हटाने का कार्य अगले 24 घंटे तक चलेगा तब कहीं जाकर मलबे में दबे शवों को निकाला जा सकेगा.

पुनर्वास मंत्री ने किया भिवंडी दौरा 

प्रदेश पुनर्वास व मदद कार्य मंत्री विजय वडेट्टीवार ने इमारत हादसे पर गहरा दुख प्रकट करते हुए कहा कि भिवंडी शहर की भौगोलिक रचना के आधार पर अवैध निर्माण रोकने हेतु इमारतों के निर्माण हेतु एफएसआई को बढ़ाने की जरूरत है. ठाणे जिला पालक मंत्री एकनाथ शिंदे के समक्ष एफएसआई बढ़ाने का मामला प्रलंबित है जो जल्द ही मूर्त रूप लेगा. पुनर्वास मंत्री ने उक्त हादसे में जिम्मेदार अधिकारियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई किए जाने का आदेश मनपा आयुक्त डॉ. पंकज आशिया को दिया है. उक्त मौके पर प्रान्त अधिकारी मोहन नलदकर, मनपा आयुक्त डॉ. पंकज आशिया, पुलिस उपायुक्त राजकुमार शिंदे, कांग्रेस जिलाध्यक्ष शोएब गुड्डू, मनपा नगरसेवक प्रशांत लाड, प्रवक्ता इकबाल सिद्दीकी सहित तमाम कांग्रेसी मौजूद थे.