30 bike ambulances purchased worth 45 lakhs have been Trashy

    ठाणे. करीब 45 लाख की लागत से खरीदी गई 30 बाइक एंबुलेंसों (Bike Ambulance) का इस्तेमाल न किए जाने से वे कबाड़ (Trashy) हो चुकी हैं। इस गंभीर मामले का खुलासा करते हुए मनसे (MNS) ने चेतावनी दी है कि लाखों की लागत से खरीदी गई बाइक एंबुलेंसों का इस्तेमाल नहीं किया जाता है तो मनसे इस मुद्दे को लेकर जोरदार तरीके से आंदोलन (Andolan) करेगी।

    ज्ञात हो कि ठाणे शहर में स्थित सघन बस्तियों और पहाड़ी क्षेत्रों में आपात स्थिति के दौरान जल्द पहुंच लोगों की सहायता करने के लिए मनपा आयुक्त के आदेश पर 45 लाख रुपए की लागत से 30 बाइक एंबुलेंस खरीदे गए थे। योजना के तहत कई बाइक एंबुलेंसों को स्थानीय स्वास्थ्य केंद्रों को आपदा स्थिति में लोगों की सेवा करने के लिए उपलब्ध कराया गया था। इसके साथ ही कोरोना महामारी के दौरान ऐसे बुर्जुग जो कोरोना जांच करने के लिए स्वास्थ्य केंद्रों पर नहीं पहुंच सकते, उन्हें बाइक एंबुलेंसों से केंद्रों पर लाने का आदेश मनपा आयुक्त ने दिया था। 

    16 नई बाइक एंबुलेंस कबाड़ हो गए

    हालांकि लाखों खर्च कर मनपा के बेड़े में शामिल किए गए बाइक एंबुलेंसों का जिस तरह से उपयोग किया जाना चाहिए, वैसा स्वास्थ्य केंद्रों द्वारा नहीं किया गया। वर्तमान स्थिति में बाइक एंबुलेंस कहां और किन परिस्थितियों में हैं, इसकी सही जानकारी लेने के लिए मनसे के ठाणे शहर अध्यक्ष रविंद्र मोरे के मार्गदर्शन में उप शहर अध्यक्ष पुष्कराज विचारे के नेतृत्व में प्रभाग क्रमांक-14 के शाखा अध्यक्ष राजेंद्र कांबले ने सहायक आयुक्त को पत्र दिया था। इसके साथ ही मनसे ने इस भ्रष्टाचार का पर्दाफाश किया है। मनसे पदाधिकारियों ने बताया है कि 16 नई बाइक एंबुलेंसों को लोकमान्य नगर स्थित महिला बचत गट भवन में रखा गया है, जो कबाड़ हो चुकी हैं। उन्होंने चेतावनी दी है कि एंबुलेंस बाइकों का इस्तेमाल नहीं किया जाता है तो मनसे तीव्र आंदोलन छेड़ेगी।