9,27,000 new cases of Covid-19 were reported in Europe in a week
File Photo : PTI

  • रविवार को बस कंडक्टर खंबाले की मौत
  • 2 ड्राइवर और 4 कंडक्टर का समावेश
  • 50 लाख की मदद राशि पर उठे सवाल
  •  नहीं मिला मृतक के परिजन को पैसा

कल्याण. महामारी के दौरान अब तक कोरोना से आधा दर्जन केडीएमटी के कर्मचारियों की मौत से परिवहन विभाग में खलबली मची हुई है. रविवार को संतोष खंबाले नामक बस कंडक्टर की मौत हो गई. इसके पहले कुल 6 कर्मचारी दम तोड़ चुके हैं जिसमें 2 बस ड्राइवर और 4 बस कंडक्टरों का समावेश है. मिली जानकारी के अनुसार, संतोष खंबाले को कल्याण के मीरा अस्पताल में भर्ती किया गया था. डाक्टरों के लाख प्रयास के बाद उसे बचाया नहीं जा सका और रविवार को उसकी मौत हो गई. संतोष खंबाले के उपचार में लाखों रुपए खर्च हुए.  अस्पताल का बिल भी लाखों में बताया जा रहा है जिसको लेकर परिवहन कर्मियों ने नाराजगी जताई  है. 

कर्मचारियों में नाराजगी व्याप्त

मिली जानकारी के अनुसार, केडीएमसी के उपक्रम में काम करने वाले बस चालक और कंडक्टरों को कोरोना सुरक्षा कवच के नाम पर महज एक मास्क और महीने भर में एक सेनेटाइजर दिया जा रहा है, जिससे कर्मचारियों में नाराजगी व्याप्त है. वहीं राज्य सरकार द्वारा जाहिर की गई 50 लाख की मदद राशि अभी तक मृतक के किसी भी परिजन को नहीं मिली हैं,जिससे कर्मचारियों में असंतोष व्याप्त है. गौरतलब है  कि कल्याण-डोंबिवली मनपा के परिवहन उपक्रम में 700 से 800 कर्मचारी हैं. कार्यरत कर्मचारियों का कहना है कि अत्यावश्यक सेवा के लिए दिन-रात काम करने वाले बस चालक और कंडक्टरों को कोई सुरक्षा कवच नहीं दिया जा रहा है. सुरक्षा कवच के नाम पर खिलवाड़ किया जा रहा हैं.