corona

ठाणे. राज्य सरकार द्वारा लागू किये गए लॉक डाउन में पुलिस ने सुरक्षा व्यवस्था को बरकरार रखने के लिए दिन रात काम कर रहे हैं. इस दौरान कई पुलिस कर्मी कोरोना संक्रमित भी चुके थे, लेकिन संक्रमित कुल मारिजों में से कुल 95 प्रतिशत कोरोना संक्रमित पुलिस कर्मियों ने कोरोना को हराकर ठीक होकर अपने घर लौट चुके हैं जो कि एक राहत की बात है.

ठाणे पुलिस आयुक्तालय के अंतर्गत लगभग आठ हजार पुलिस कर्मी काम करते हैं. ठाणे से बदलापुर और भिवंडी शहर ठाणे सिटी पुलिस के अंतर्गत आता है.  मार्च में शुरू हुई तालाबंदी के कारण पुलिस को शहर के विभिन्न हिस्सों में नाकाबंदी और गश्त करनी पड़ रही थी. इस अवधि के दौरान कई पुलिस कर्मी कोरोना संक्रमित हो चुके थे. यहां तक कि पुलिस आयुक्त विवेक फणसलकर भी इस महामारी से बच नहीं पाए थे और उन्हें भी संक्रमण हुआ था. तकरीबन10 दिन तक अस्पताल में थे. 

वहीं पुलिस के संपर्क में आने वाले अन्य पुलिस कर्मी भी संक्रमित हुए थे. अप्रैल से अक्टूबर 18 तक, 176 पुलिस अधिकारी और 1,509 पुलिस कर्मी इस प्रकार कुल 1,685 कोरोना संक्रमित पाये गए थे. जिसमें से अधिकतर पुलिस कर्मचारी मुख्यालय में काम करते है. इस प्रकार ठाणे पुलिस के कुल 235 कर्मचारी, वहीं राज्य रिजर्व पुलिस बल के 130 पुलिसकर्मी और यातायात पुलिस विभाग के 115 पुलिस कर्मी कोरोना संक्रमित पाये गए हैं.

पुलिस के कोरोना संक्रमित होने कारण शहर की सुरक्षा व्यवस्था पर भी असर पड़ रहा था. हालांकि अब पुलिस बल के लिए राहत की बात यह है कि 1 हजार 685 कोरोना संक्रमित  पुलिस कर्मियों में से 1 हजार 611 पुलिस कर्मी पूरी तरह ठीक होकर अपने घर लौट चुके हैं. यदि प्रतिशत अनुसार बात करें तो 95.60 प्रतिशत पुलिस ने कोरोना को मात देने में सफल रहे. इसमें 168 पुलिस अधिकारी और 1,443 पुलिस कर्मी शामिल हैं.  ठीक हुए पुलिस कर्मियों में से 1,031 को उनके ड्यूटी पर बहाल कर दिया गया है. इसी वजह से अन्य पुलिसकर्मियों पर काम का तनाव कम हो गया है.

पुलिस स्मृति दिवस पर एक और पुलिस कर्मी की कोरोना से मौत

वहीं दूसरी तरफ पुलिस स्मृति दिवस के  दिन एक और पुलिस कर्मी की कोरोना से जान चली गई. दरअसल, वर्तक नगर पुलिस स्टेशन में काम करने वाले पुलिस हवलदार हरिनाम गायकवाड़ की 21 अक्टूबर को अस्पताल में इलाज के दौरान मौत हो गई. इस प्रकार देखा जाए तो अब इस वैश्विक महामारी कोरोना से संक्रमित पुलिस कर्मियों में से 26 पुलिस की मौत हो चुकी है. वहीं शेष 46 पुलिस कर्मियों का विभिन्न असप्तालों में इलाज चल रहा है.