Economic crisis of farmers increased, distressed due to low price

  • थोक में बिका 20 से 30 रुपए किलो

नवी मुंबई. विगत माह वाशी स्थित एपीएमसी की आलू-प्याज की मंडी में थोक में प्याज का दाम काफी बढ़ गया था, जिसे देखते हुए इस मंडी में थोक में कारोबार कर रहे कुछ व्यापारियों ने ईरान व इजिप्ट से प्याज का आयात करना शुरू किया था.अब यहां के कुछ व्यापारियों ने तुर्की से प्याज का आयात किया है, जिसकी 15 टन की पहली खेप सोमवार को यहां की मंडी में आई, जिसे थोक में 20 से 30 रुपए किलो बेचा गया.

वाशी स्थित आलू-प्याज की मंडी में थोक में कारोबार कर रहे मनोहर तोतलानी के अनुसार सोमवार को मंडी में 83 गाड़ियों से 11 हजार 166 बोरी प्याज की आवक हुई.जिसमें ईरान, इजिप्ट व तुर्की से आयात की गई प्याज का समावेश था.सोमवार को महाराष्ट्र से आई वीआईपी दर्जे की प्याज को 50 से 55 रुपए किलो बेचा गया. वहीं 1 से 5 नंबर की प्याज को 20 से 45 रुपए किलो का दाम मिला.जबकि नई प्याज को 10 से 40 रुपए का दाम मिला.

विदेशी प्याज के दाम में गिरावट जारी

एपीएमसी की आलू-प्याज की मंडी में देशी प्याज के साथ-साथ  विदेशी की कीमत में गिरावट का सिलसिला जारी है. सोमवार को ईरान व इजिप्ट से आई 1 नंबर की प्याज को 30 से 35 रुपए किलो का दाम मिला.जबकि इन दोनों देशों से आयात की गई बदलाजोड नामक प्याज को 20 रुपए किलो में बेचा गया. थोक में आलू-प्याज का कारोबार कर रहे व्यापारियों के अनुसार कुछ दिनों में नई प्याज की आवक बढ़ने के आसार हैं, जिसकी आवक शुरू होने के बाद प्याज के दाम में और गिरावट आने की पूरी संभावना है.

मंडी में लहसुन की आवक बढ़ी

आलू व प्याज के बाद अब यहां की मंडी में लहसुन की आवक भी बढ़ गई है. जिसके चलते इसके दाम में गिरावट की शुरू हो गई. सोमवार को मंडी में 5 हजार 113 बोरी लहसुन की आवक हुई. सोमवार को मंडी में वीआईपी दर्जे का लहसुन 100 से 120 रुपए किलो बेचा गया.जबकि 1 नंबर के लहसुन को 80 से 90 रुपए किलो का दाम मिला. वहीं 2 नंबर का लहसुन 60 से 70 रुपए किलो में बेचा गया.जबकि 3 नंबर के लहसुन को 40 से 50 रुपए किलो का दाम मिला.