Allegations of large-scale irregularity in the draft voter list, long queues were lodged

    अंबरनाथ. अंबरनाथ नगरपालिका (Ambernath municipality) के आगामी आम चुनावों (Elections) के लिए 15 फरवरी को प्रकाशित की गई प्रारूप मतदाता सूची (Draft Voter List) में बड़े पैमाने पर हुई अनियमितता को लेकर लगभग सभी प्रमुख राजनीतिक दलों ने अपनी नाराजगी दर्शाई है तथा मतदाता सूची (Voter List) को दुरुस्त करने की लिखित मांग व्यक्तिगत तौर पर हजारों लोगों ने नगरपालिका प्रशासन से है। 

    आपत्ति दर्ज कराने का सोमवार को अंतिम दिन था, इसलिए आपत्ति दर्ज कराने वालों की लंबी कतार (Long Queues) नगरपालिका के मुख्यालय में देखी गई। प्रारूप मतदाता सूची में इस वार्ड के नाम दूसरे वार्ड में होना, कुछ वार्डो के मतदाताओं के नाम दूर दराज वार्ड में चले जाना, अन्य वार्ड के सेंकडों मतदाताओं के सेंकडों नाम इस वार्ड से उस वार्ड में आ जाने की शिकायत प्रारूप सूची में देखने को मिली है।

    हजारों लोगों ने शिकायत दर्ज की

    शिवसेना शहर प्रमुख अरविंद वालेकर, अंबरनाथ शहर कांग्रेस के अध्यक्ष प्रदीप पाटिल, एनसीपी अध्यक्ष सदाशिव पाटिल, भाजपा पूर्व विभाग के अध्यक्ष अभिजीत करंजुले-पाटिल, भाजपा पश्चिम विभाग के अध्यक्ष राजेश कौठाले आदि पहले की प्रारूप सूची में बड़े पैमाने पर गलती होने का आरोप लगा चुके है।15 फरवरी को प्रारूप मतदाता सूची जारी की गई है, लेकिन 16 फरवरी से शुल्क लेकर इसको देने की शुरुआत हुई तथा 22 फरवरी की शाम 5 बजे तक आपत्ति दर्ज कराने का समय दिया गया था, हजारों लोगों ने अपनी अपनी शिकायत दर्ज की है। 

    शिकायत को गंभीरता से लेना चाहिए : पंकज पाटिल 

    इस संदर्भ में अंबरनाथ कांग्रेस कमेटी के पंकज पाटिल ने कहा कि विधानसभा चुनाव की मतदाता सूची के आधार पर महकमे के अधिकारियों व कर्मचारियों ने मतदाता सूची बनाई है। जबकि नगरपालिका के वार्ड के अनुसार लिस्ट बननी चाहिए थी। पाटिल का कहना है कि चुनाव निष्पक्ष हो इसलिए जिन मतदाताओं ने अपनी आपत्तियां लिखित तौर पर की है, उनकी शिकायत की संपूर्ण जांच कर अंतिम मतदाता सूची में उन्हें शामिल करना चाहिए जिन्होंने वार्ड बदलने की लिखित इच्छा जताई है उन्हें भी न्याय मिलना चाहिए व बोगस मतदाताओं संबंधी शिकायत को गंभीरता से लेना चाहिए।