तोड़ू कार्रवाई से नाराज महिला ने किया आत्महत्या का प्रयास

  • सुसाइड नोट में नपा अधिकारियों के लिखे नाम

अंबरनाथ. अंबरनाथ नपा के अवैध तोड़ू दस्ते द्वारा स्थानीय गांवदेवी रोड परिसर में वर्षों से पतरे के घर में रहने वाली एक महिला के घर को रविवार को अवकाश होने के बावजूद पुलिस के भारी बंदोबस्त के बीच तोड़ दिए जाने की घटना से आहत उस महिला में कीटनाशक दवा का सेवन कर रविवार की रात आत्महत्या करने का प्रयास किया. इस महिला ने आत्महत्या की कोशिश करने से पहले एक सुसाइड नोट भी लिखा है.

उस चिठ्ठी में नपा के अधिकारियों व अन्य के नाम भी लिखे हैं व इसके माध्यम से उस महिला ने यह कहा है कि मेरी मौत के जिम्मेदार यह लोग हैं. अंग्रेजी में लिखे अपने सुसाइड नोट में महिला ने लिखा है कि संबंधितों ने एक बिल्डर को लाभ पहुंचाने के उद्देश्य से विमको नाका से गांवदेवी रोड़ की 72 दुकानों को 3 साल साल पहले तोड़ डाला है. मैंने अपना घर बचाने के लिए नपा से लेकर राज्य के मुख्यमंत्री तक को पत्र लिखा है, वहां से कोई उत्तर तो नहीं आया, लेकिन नपा ने उनके घर पर रविवार को बुल्डोजर जरूर चला दिया, जिससे वह बेघर ही गयी हैं. 

अपने सुसाइड नोट में महिला ने यह भी लिखा है कि मैं आत्महत्या कर रही हूं, इससे यदि मेरी मौत होती है तो जहां मेरा घर था, जिसको 29 नवंबर को नपा ने तोड़ा है उसी स्थान पर उसका दाह संस्कार किया जाए. महिला के सुसाइड नोट के अनुसार गांवदेवी रोड़ 12 मीटर प्रस्तावित था, लेकिन बिल्डर की दुकानें सड़क पा जाएं, इसलिए नपा प्रशासन के अधिकारियों ने उस सड़क को 22 मीटर चौड़ा कर दिया व इस योजना में 72 दुकानदार बेरोजगार व कुछ घर वाले बेघर हो गए हैं. शहर में इस घटना को लेकर हड़कंप मच गया है. महिला का इलाज उल्हासनगर के सरकारी अस्पताल में चल रहा है.