Badlapur_ Due to heavy rain, the team of NDRF and BMC reached for help

    बदलापुर. पिछले तीन दिनों से लगातार हो रही बारिश से बदलापुर (Badlapur) में उल्हास नदी (Ulhas River) खतरे के निशान को पार कर गई है। नतीजा यह हुआ कि बाढ़ का पानी बदलापुर के बाजार पेठ (Bazar Peth) , हेन्द्रपाड़ा (Hendrapara), मानव पार्क (Manav Park), तुलसी विहार (Tulsi Vihar) और अन्य जगहों पर भर जाने से परिसर का जनजीवन पूरी तरह से अस्त-व्यस्त हो गया। बदलापुर और वांगणी के बीच रेलवे लाइन पर जलजमाव हो जाने से  बदलापुर से कर्जत के बीच ट्रेन सेवा बाधित रही। स्थानीय चामटोली गाँव पहुंचकर एनडीआरएफ और बीएमसी की आपातकालीन टीमों ने मौके पर पहुंचकर राहत प्रदान की। 

    बुधवार की आधी रात से गुरुवार सुबह पांच बजे तक शहर और आसपास के ग्रामीण हल्कों में भारी बारिश हुई, इससे पहले मंगलवार और बुधवार को लगातार दो दिनों तक मूसलाधार बारिश हुई। जिससे बाढ़ की स्थिति निर्माण हो गई थी।  बरसात ने रौद्र का रूप धारण कर लिया।  इसी तरह कर्जत में हुई मूसलाधार बारिश से उल्हासनदी उफान पर आ गई।  गुरुवार की सुबह उल्हासनदी के किनारे बसे गाँवो और बड़े-बड़े कॉम्प्लेक्स में पानी भर गया। वही धीरे-धीरे बदलापुर के शहरी इलाकों में भी जलजमाव होने से लोगों को 2005 की मूसलाधार बारिश की याद दिला दी।  उल्हासनदी ने पानी ने बदलापुर गाँव और रेलवे स्टेशन क्षेत्र के साथ-साथ वालीवली क्षेत्र में बाढ़ की स्थिति उत्पन्न कर दी थी। एहतियात के तौर पर वालीवली पूल को पुलिस ने बंद करा दिया था। क्षेत्रीय विधायक किसन कथोरे और  तहसीलदार जयराज देशमुख ने क्षेत्र का दौरा किया। 

    रेल यात्रियों को नाश्ता और चाय उपलब्ध कराई स्थानीय नेताओं ने 

    बदलापुर-कर्जत रेलवे लाइन पानी में डूब जाने से रेल यातायात पूरी तरह से बंद हो गया था। मुंबई से सोलापुर जा रही सिद्धेश्वर एक्सप्रेस बुधवार रात 12 बजे तक बदलापुर रेलवे स्टेशन पर रुकी रही। शिवसेना के शहर प्रमुख वामन म्हात्रे और बदलापुर राष्ट्रीयवादी कांग्रेस पार्टी  के शहर अध्यक्ष कैप्टेन आशिष दामले की ओर से यात्रियों को नाश्ता, पानी और चाय वितरित की गई।