Bhiwandi cut off from local rail service for a year

    भिवंडी. वैश्विक महामारी कोरोना संकटकाल की शुरुआत 21मार्च की अर्धरात्रि से ही पावरलूम उद्योग सेंटर का बेहद महत्वपूर्ण भिवंडी रोड  स्टेशन होकर दिवा-भिवंडी-वसई तक चलने वाली डीएमयू लोकल रेल सेवा केंद्र सरकार के आदेश पर आज तक पूर्णतया बंद है। अनलॉक के उपरांत राज्य सरकार द्वारा मुंबई में यात्रियों के आवागमन के लिए लोकल, मेट्रो ट्रेन शुरू किए जाने के बावजूद भिवंडी रोड रेल स्टेशन से यात्रियों की बार-बार मांग के उपरांत भी एक वर्ष बीत जाने के बाद भी लोकल सेवा शुरू नहीं किए जाने से यात्रियों में भारी नाराजगी व्याप्त है। दिवा-भिवंडी-वसई रेल मार्ग से लोकल रेल से यात्रा करने वाले यात्रियों ने रेल मंत्री पीयूष गोयल सहित मध्य रेल महाप्रबन्धक से लोकल सेवा अबिलम्ब शुरू किए जाने की मांग की है।

    गौरतलब है कि वैश्विक महामारी कोरोना संकटकाल शुरुआत में ही कोरोना संक्रमण प्रसार बचाव के लिए मार्च 2020 से ही केंद्र सरकार और रेल मंत्रालय के निर्देश पर राज्य सरकार द्वारा लोकल, मेट्रो सहित तमाम एक्सप्रेस ट्रेनों को परिचालन रोक दिया गया था। अनलॉक की शुरुआत के उपरांत राज्य सरकार द्वारा जहां दूरदराज की एक्सप्रेस ट्रेनों का केमोवेश परिचालन शुरू किया गया, वहीं फरवरी माह से मुंबई में लोकल, मेट्रो सेवा भी कोरोना नियमों का पालन करते हुए पूर्ववत शुरू हो चुकी है जिसका फायदा यात्रियों को मिल रहा है। हैरतअंगेज तथ्य है कि राज्य सरकार द्वारा मुंबई से दूरदराज क्षेत्रों तक लोकल एवं मेट्रो सेवा की शुरुआत की गई बावजूद उद्योग क्षेत्र की महत्वपूर्ण भिवंडी नगरी को रेल यातायात सुविधा से पूर्णतया नजरअंदाज किया गया है।

    हो रही है परेशानी

    भिवंडी रोड रेलवे स्टेशन से रेल मंत्रालय को  प्रतिदिन लाखों रुपए का राजस्व प्राप्त होने के बावजूद रेल मंत्रालय का कोई ध्यान पावरलूम उद्योग नगरी की तरफ नहीं है। पावरलूम उद्योग नगरी भिवंडी से हजारों लोग प्रतिदिन दिवा, मुंबई-वसई-विरार और सूरत, अहमदाबाद  से कपड़ा व्यापार के लिए आते-जाते हैं, लेकिन रेल मंत्रालय ध्यान नहीं दे रहा है। पावरलूम नगरी भिवंडी में वैश्विक महामारी कोरोना से पूर्व हजारों कपड़ा व्यवसाई मुंबई, वसई, सूरत, अहमदाबाद आदि शहरों से व्यापार के लिए आसानी से आते-जाते थे जिन्हें अब आवागमन में भारी आर्थिक परेशानी, समय की बर्बादी झेलनी पड़ रही है। 

    व्यापारियों के साथ सरासर अन्याय 

    वसई निवासी कपड़ा व्यापारी रामलाल शर्मा, आदित्य बंजारी, रामउदित शर्मा, शिव दयाल बागड़िया आदि ने रेल मंत्रालय की कार्यप्रणाली पर भारी आक्रोश व्यक्त करते हुए कहा भिवंडी शहर समूचे देश का सबसे बड़ा कपड़ा उत्पादक शहर है। कपड़ा उत्पादन की अग्रणी नगरी होने के बावजूद केंद्र एवं राज्य सरकार कपड़ा नगरी के सर्वांगीण विकास एवं रेल यातायात सुविधा से कनेक्टिविटी के लिए कोई सार्थक कदम नहीं उठाता बावजूद जो लोकल सेवा चल भी रही थी उसे कोरोना संक्रमण का नाम देकर बंद कर दिया गया है जो पावरलूम नगरी के व्यापारियों के साथ सरासर अन्याय है।

    डीएमयू रेल सेवा शुरू करने में आनाकानी क्यों की जा रही 

    कपड़ा व्यवसाई मनोज दुढाणी, हाजी लाल मोहम्मद माणिक चंद सुल्तानिया, बसंत परमार आदि का कहना है कि राज्य सरकार ने जब मुंबई से लोकल सेवा शुरू कर दी है तो फिर पावरलूम नगरी भिवंडी से डीएमयू रेल सेवा शुरू करने में आनाकानी क्यों की जा रही है ? भिवंडी सहित अन्य शहरों के कपड़ा व्यवसायियों की यात्रा सुविधा के लिए दिवा-भिवंडी-वसई लोकल सेवा को फौरन शुरू किया जाना जरूरी है। उक्त मुद्दे पर कोई भी वरिष्ठ रेल अधिकारी कुछ भी कहने को तैयार नहीं है।