जलते कचरे की दुर्गंध से भिवंडीवासियों का जीना हुआ मुहाल

  • मनपा सफाई कर्मियों की लापरवाही उजागर
  • कोर्ट के आदेश का खुल्लम खुल्ला उल्लंघन

भिवंडी. भिवंडी मनपा सफाई कर्मियों द्वारा कोर्ट के आदेशों का उल्लंघन कर डंपिंग ग्राउंड सहित अन्य ठिकानों पर कचरा जलाए जाने का हैरतअंगेज मामला प्रकाश में आया है. मनपा सफाई कर्मियों की टीम शहर से उठाए गए कचरे को डंपिंग ग्राउंड में आग लगाती है और अन्य जगहों पर एकत्रित हुए कचरे को भी आग के हवाले कर दिया जाता है. कचरे के जलने से डंपिंग ग्राउंड के आसपास उड़ रही कार्बन डाइऑक्साइड गैस से लोगों को सांस लेने में भारी दिक्कतें झेलनी पड़ रही हैं. दुर्गंध से परेशान हजारों लोग अस्थमा, चर्म रोग की चपेट में आकर उपचार की मजबूरी झेल रहे हैं. स्थानीय क्षेत्र वासियों की बारंबार गुहार के बावजूद मनपा प्रशासन लोगों की सुरक्षा को नजरअंदाज कर कर रही है. 

बताद दें कि भिवंडी शहर का समूचा कचरा चाबिंद्रा स्थित डंपिंग ग्राउंड में एकत्रित किया जाता है. मनपा प्रशासन की मानें तो डंपिंग ग्राउंड में कचरे को सुनियोजित तरीके से डंप किए जाने की पुख्ता व्यवस्था सहित कीटनाशक दवा का छिड़काव निरंतर किया जाता है, ताकि रहिवासी क्षेत्र में कदापि दुर्गंध न फैल सके. मनपा के दावे के उलट डंपिंग ग्राउंड परिसर में शहर का सूखा, गीला कचरा अनियंत्रित तरीके से कचरा ठेकेदार द्वारा डंपिंग ग्राउंड में फेंक कर आग लगाने का कार्य किया जाता है, जिससे समूचे क्षेत्र में काला धुआं पसरा रहता है. कचरे के धुएं से लोगों को सांस लेने में भी भारी कठिनाई का सामना करना पड़ता है. 

मानसरोवर रहवासी क्षेत्र की पहाड़ी के नीचे चाबिंद्रा डंपिंग ग्राउंड होने की वजह से हजारों मानसरोवर निवासी दुर्गंध को झेलने मजबूर हैं. पर्यावरण प्रेमी प्रोफेसर अरुण सिंह की माने तो डंपिंग ग्राउंड में कचरा जलाया जाने से लोगों को अनेक बीमारियां हो सकती हैं. 

श्रीराज सिंह, पीडी यादव, रविंद्र त्रिपाठी, बलराम सिंह आदि ने बताया कि मनपा सफाई कर्मी कचरे को इकट्ठा कर जला देते हैं ताकि कचरे को उठाना न पड़े. कचरे की दुर्गंध से सांस लेने में भी भारी तकलीफ होती है. शिकायत के बावजूद मनपा प्रशासन कोई जरूरी कदम नहीं उठाता है. मानसरोवर क्षेत्र भाजपा नगरसेवक श्याम अग्रवाल का कहना है कि कचरा डंपिंग ग्राउंड से उठती बदबू से लोग बेहद त्रस्त हैं. अनेकों बार मनपा प्रशासन से शिकायत किए जाने के बावजूद कोई ध्यान नहीं दिया जाता है. कचरा डंपिंग ग्राउंड परिसर स्थित गायत्री नगर, रामनगर, गौतम कंपाउंड,नवी बस्ती, फेना गांव, फेना पाड़ा, मानसरोवर आदि क्षेत्रों में रहने वाले हजारों लोगों का डंपिंग ग्राउंड में जलाए जा रहे कचरे की बदबूदार हवा ने जीना मुहाल कर दिया है.