नवी मुंबई में भी सादगी व श्रद्धा से मना छठ पर्व

नवी मुंबई. कोरोना का संक्रमण नहीं हो, इसके लिए इस साल शासन व प्रशासन के द्वारा उरण के समुद्र तट व तालाबों पर सार्वजनिक रूप से छठ का पर्व मनाने की अनुमति नहीं दी गई थी. जिसकी वजह से उरण में रहने वाले उत्तर भारतीय समाज के लोगों ने कोरोना के संक्रमण से बचने के लिए अपने घरों की छत पर इस पर्व को सादगी व श्रद्धा के साथ मनाया.

गौरतलब है कि उरण शहर में रहने वाले उत्तर भारतीय समाज के लोगों के द्वारा हर साल इस शहर के विमला तालाब व पिरवाडी से लगे समुद्र के तट पर बडे पैमाने पर छठ का पर्व मनाया जाता था.लेकिन इस साल कोरोना के संक्रमण के चलते इस साल सार्वजनिक ठिकानों पर इस पर्व को मनाने की अनुमति नहीं मिली. जिसकी वजह से इस साल इस शहर का तालाब व समुद्र का तट सुना-सुना नजर आया.

घर की छत से दिया उगते सूर्य को अर्घ्य 

छठ मईया की पूजा करने के लिए शुक्रवार को ही उरण में छठ व्रतियों ने अपनी इमारत की छत पर पूजा सामग्री व पानी की व्यवस्था की थी. शनिवार को प्रात:काल यहां पर छठ व्रतियों ने अपनी इमारत की छत से उगते हुए सूर्य को अर्घ्य देकर पूजा-अर्टना की. उरण शहर में रहने वाले गौरव कुमार पुजारी व मंजू कुमार ने बताया कि इस साल कोरोना के संक्रमण की वजह से  इस साल समुद्र के तट पर पूजा करने पर पाबंदी थी.इसलिए अपनी इमारत की छत पर ही इस पर्व को मनाने का निर्णय लिया था.