कर्नाला सहकारी बैंक घोटाले की जांच अब सीआईडी के हवाले

शेकाप नेता विवेक पाटिल की बढ़ सकती हैं मुश्किलें

नवी मुंबई. शेकाप नेता विवेक पाटिल की अध्यक्षता में चल रहे कर्नाला सहकारी बैंक घोटाले की जांच में अब नया मोड़ आ गया है. शनिवार को इस मामले की जांच राज्य सरकार की सीआईडी यानी अपराध अन्वेषण विभाग को सौंप दिया गया . बता दें कि कर्नाला कोआपरेटिव बैंक में 514 करोड़ 54 लाख 53 हजार रूपयों के कथित घोटाले को लेकर रिजर्व बैंक और सहकारिता मंत्रालय ने जांच के आदेश दिए थे. फरवरी में कर्नाला बैंक के अध्यक्ष विवेक पाटिल समेत कुल 56 संचालकों के खिलाफ पनवेल पुलिस थाने में घोटाले का मामला दर्ज किया गया था. 

नवी मुंबई पुलिस की क्राईम ब्रांच ने घोटाले की जांच कर रही थी, लेकिन बैंक निवेशकों की संघर्ष समिति ने जांच पर सवाल उठाते हुए सीआईडी से जांच कराने की मांग की थी. गौरतलब है कि रायगड़ जिले के कर्नाला नागरी सहकारी बैंक लिमिटेड में करोड़ों के घोटालों की शिकायत के बाद रिजर्व बैंक ने भी इसकी जांच की थी, जिसमें धांधली का खुलासा हुआ था.आरबीआई ने इसके बाद विशेष लेखा परीक्षण करने का आदेश दिया था. जिले के विशेष लेखा परीक्षक उमेश तुपे ने कर्नाला बैंक का फाइनेंसियल ऑडिट करने के बाद अपनी रिपोर्ट सौंप दी है.