EDIBLE OIL

नवी मुंबई. जहां एक ओर नागरिक कोरोना की महामारी से चिंतित हैं, वहीं दूसरी ओर महंगाई से परेशान है. इन दोनों की वजह से आम आदमी का बजट अब पूरी तरह से चरमरा गया है. सब्जियों, आलू-प्याज और दाल की कीमतों में वृद्धि होने के बाद अब थोक में खाद्य तेल भी महंगा हो गया है. जिसकी वजह से त्यौहारों के इस दौर में अब गृहणियों का बजट पूरी तरह से गड़बड़ा गया है.

एपीएमसी की तेल मंडी में खाद्य तेल का थोक में कारोबार कर रहे व्यापारियों ने नवभारत को बताया कि खाद्य तेल के दाम में वृद्धि होने के कई कारण है. जिसमें अंतरराष्ट्रीय बाजार में खाद्य तेल के दाम में हुई वृद्धि, प्राकृतिक आपदा और आयात किए जा खाद्य तेल पर बढ़ाई गई कस्टम ड्यूटी प्रमुख है. इन सभी की कारणों से थोक में सोयाबीन, पाम और सूर्यमुखी के तेल की कीमतों में वृद्धि हुई है. वही मूंगफली के तेल में मामूली गिरावट आई है.

1800 रुपए में 15 लीटर तेल 

एपीएमसी की तेल मंडी में सूर्यमुखी का 15 लीटर का तेल का डिब्बा पहले 1500 रुपए में मिल रहा था. जिसकी कीमत में अब 300 रुपए का इजाफा हुआ है. जिसके चलते अब इस तेल का 15 लीटर का डिब्बा थोक में1800 रुपए में बेचा जा रहा है. वहीं पहले 1000 से 1100 रुपए में बिक रहा 15 लीटर का पाम तेल का डिब्बा अब 1400 में 1500 रुपए में बिक रहा है, जबकि मूंगफली के तेल में 300 रुपए की गिरावट आई है. पहले मूंगफली का 15 लीटर का तेल का डिब्बा 2400 रुपए में बिक रहा था. अब इसकी कीमत घटकर 2100 रुपए हो गई है.