Hawkers
File Photo

नवी मुंबई. लॉकडाउन से बेहाल फेरीवालों के लिए भी रोजी रोटी का इंतजाम भारी पड़ने लगा है. सड़कों पर लोग कम हैं ऐसे में कामधंधा कम हो गया है. बहरहाल आर्थिक संकट ऐसा है कि जो कमाई हो रही उसमें परिवार जिलाना मुश्किल है. अखिल भारतीय मजदूर किसान संघ ने फेरीवालों का परवाना शुल्क माफ करने की मांग की है.

अध्यक्ष प्रफुल्ल म्हात्रे ने कहा कि आज फेरीवाले भी भारी संकट में हैं. उन्होंने मनपा आयुक्त को दिए निवेदन का हवाला देते हुए कहा कि यदि फेरीवालों का शुल्क माफ होता है इससे बड़ी राहत मिलेगी. बता दें कि नियमों के अनुसार मनपा प्रति वर्ष 2040 रुपए का शुल्क लेती है जिसके बदले फेरीवाला लायसेंस रिन्यूअल किया जाता है. हालांकि यह रकम बड़ी नहीं है लेकिन लॉकडाउन के कारण आज इतनी रकम भरना भी फेरीवालों के लिए मुश्किल हो रहा है. प्रफुल्ल म्हात्रे ने कहा कि आर्थिक संकट के समय रोज कमाने खाने वालों के लिए ऐसी राहत देने की जरूरत है.