आपदा से निपटने समाज को बचाने राष्ट्रधर्म निभाएं डॉक्टर

नवी मुंबई. हिन्दू जनजागृति समिति ने डाक्टरों और विशेषज्ञों को आपदाओं से बचाव के लिए नागरिकों को प्रशिक्षण देने का आवाहन किया है. समिति के अनुसार एक कोरोना वायरस ने पूरी दुनिया को घुटने टेकने पर मजबूर कर दिया है. अनेक संतों भविष्यवेत्ताओं ने पहले ही बताया है कि अगले वर्षों में इससे भी भीषण आपदाकाल आने वाला है. इसमें युद्ध या मानवनिर्मित आपत्तियों से समाज को बड़ा खतरा है.

इसलिए ऐसी आपदाओं से बचाने के लिए डॉक्टरों एवं विशेषज्ञों को आगे आना चाहिए और समाज को उसके लिए प्रशिक्षित करना चाहिए. यह आवाहन हिन्दू जनजागृति समिति ने किया है. सनातन संस्था और हिन्दू जनजागृति समिति ने आनलाईन वैद्यकीय वेबीनार के जरिए देश भर के विशेषज्ञों के साथ चर्चा की, जिसमें समिति के राष्ट्रीय मार्गदर्शक सद्गुरू चारूदत्त पिंगले ने यह आव्हान किया. उन्होंने कहा कि ऐसी आपदाएं मानव विनाश का कारण बनेंगी जबकि इन्हें प्रशिक्षण और जागरूकता के जरिए इन्हें बचाया जा सकता है. उन्होंने कहा कि डाक्टरों का अपना राष्ट्रधर्म समझकर प्राथमिक स्तर पर लोगों को यह सिखाने की जरूरत है कि कैसे खुद को ऐसी आपत्तियों से कैसे बचाया जाए.इस आनलाईन वैद्यकीय कार्यशाला में विदर्भ,मराठवाड़ी, और उत्तर महाराष्ट्र से भारी संख्या में चिकित्सक औऱ विशेषज्ञों ने हिस्सा लिया.