Drive to cut the power connection started again

    ठाणे. महावितरण (Mahavitaran) की तरफ से बिजली ग्राहकों के बकाया बिजली बिलों (Outstanding Electricity Bills) की वसूली के लिए जोरदार मुहीम जारी है और साथ ही कनेक्शन खंडित करने की कार्रवाई फिर से शुरू कर दी गई है। यह जानकारी भांडूप परिमंडल (Bhandup Circle) के मुख्य अभियंता सुरेश गणेशकर (Suresh Ganeshkar) ने दी। उन्होंने बताया कि उच्चदाब, लघुदाब औद्योगिक, वाणिज्यिक, घरेलू, जलापूर्ति, विभाग, स्ट्रीट लाईट समेत सार्वजनिक विभाग पर 1068.9 करोड़ रुपए बिजली बिल बकाया है। कोरोना काल की बकाया रकम के चलते यह आंकड़ा बढ़ गया है। जिसकी वसूली के लिए परिमंडल के अंतर्गत जोरदार मुहीम शुरू की गई है और जिन बिजली ग्राहकों ने बिलों की अदायगी नहीं की है। उनके बिजली कनेक्शन खंडित करने की कार्रवाई  मुख्य अभियंता सुरेश गणेशकर के निर्देशानुसार शुरू है। 

    महावितरण के भांडूप परिमंडल में उच्चदाब के ग्राहकों पर 287.6 करोड़ की रकम बाकी है। जिसमें घरेलू औद्योगिक, वाणिज्यिक, ग्राहकों पर 257.85 करोड़ रुपए तथा अन्य ग्राहकों के पास 25.29करोड़ जलापूर्ति योजनाओं पर 4.46 करोड़ कृषि ग्राहकों पर 0.01 करोड़ रुपए बाकी है। इसके अलावा लघुदाब के ग्राहकों पर 781.3 करोड़ बाकी है। जिसमें घरेलू औद्योगिक, वाणिज्यिक ग्राहकों पर 562.93 करोड़ बाकी है। अन्य ग्राहकों के पास 15.42 करोड़ जलापूर्ति योजनाओं पर 8.68 करोड़ और स्ट्रीट लाईट की 189.66 करोड़ और कृषि ग्राहकों पर 4.61करोड़ रुपए एवं उच्चदाब व लघुदाब ग्राहकों समेत 1068.9 करोड़ रुपए भांडूप परिमंडल में बकाया है। 

     घरेलू ग्राहकों पर बकाया की रकम  71 हजार 506 करोड़ पहुंच गई 

    जिसके चलते महावितरण की  आर्थिक स्थिति  बिकट हो गई है। महावितरण के घरेलू ग्राहकों पर बकाया की रकम कुल 71 हजार 506 करोड़ पहुंच गई है। जिसके चलते महावितरण पर 46 हजार 659 करोड़ रुपए का कर्ज भी है। जिसको देखते हुए राज्य के  ऊर्जा मंत्री डॉ. नितीन राउत ने बिजली बिल न भरने वाले ग्राहकों का कनेक्शन खन्डित करने का निर्देश दिया है। जिसके अंतर्गत 12 मार्च से बिजली आपूर्ति खंडित करने का काम शुरू कर दिया गया है। मुख्य अभियंता सुरेश गणेशकर ने बिजली कनेक्शन खंडित होने से बचने के लिए बकाया बिलों की अदायगी करके महावितरण का  सहयोग करने का आवाहन किया है।