शहीद के परिवार को 60 लाख रुपये का आर्थिक मदद

ठाणे. कोरोना वायरस के कारण ऑन ड्यूटी शहीद पुलिस अधिकारियों के परिवारों की तरह पुलिस विभाग को भी बड़ा नुकसान हुआ है, जिसकी भरपाई नहीं की जा सकती. शहीद पुलिसकर्मियों के परिवारों की समस्याओं का समाधान किया जाएगा, ऐसा आश्वासन पश्चिम क्षेत्रीय विभाग के अतिरिक्त पुलिस आयुक्त अनिल कुंभारे ने शहीद पुलिस कर्मियों के परिवार को दी. उन्होंने कहा कि परिवारों को सरकार से अनुदान के साथ-साथ अनुकंपा के आधार पर बच्चों को काम पर रखने के बारे में प्रशासनिक स्तर पर हर संभव प्रयास किया जा रहा है.

ठाणे के नौपाड़ा पुलिस स्टेशन के सभागृह में शहीद पुलिस कर्मियों के परिवारों के लिए एक मार्गदर्शन कार्यक्रम आयोजित किया गया था.  इस अवसर पर ठाणे, भिवंडी और वागले इस्टेट परिमंडल के अंतर्गत कार्यरत पुलिस कर्मी कोरोना के कारण शहीद पुलिसकर्मियों के बारह परिवार उपस्थित थे. इस दौरान पश्चिम क्षेत्रीय विभाग के अतिरिक्त पुलिस आयुक्त अनिल कुंभारे ने परिवारों का मार्गदर्शन किया. इस दौरान उन्होंने कहा कि जिन परिवारों को सरकारी अनुदान वितरित किया जा रहा है, वे इसका समुचित उपयोग करें.  निवेश और बचत कैसे करें इस पर ध्यान रखें. 

इन परिवारों के बच्चों को अनुकंपा के आधार पर पुलिस विभाग में नौकरी पाने के लिए किन दस्तावेजों की जरूरत होती है? सरकार से आर्थिक मदद कैसे मिलती है? किन दस्तावेजों को पूरा करना होता है? इन सब की जानकारी उन्होंने परिवारों को दी. उन्होंने कहा कि वाघ की तरह अन्य परिवारों के प्रस्ताव भी सरकारी अदालत में भेजे गए हैं और प्रक्रिया चल रही है. मार्गदर्शन के बाद उन्होंने वाघ परिवार को 50 लाख का चेक व पुलिस महासंचालक कार्यालय की ओर से पुलिस कल्याण निधि अंतर्गत 10 लाख रुपये का चेक भी दिया गया. इस अवसर पर पुलिस उपायुक्त सुभाष बुरसे, वागले इस्टेट के डिप्टी कमिश्नर अविनाश अंबुरे, नौपाड़ा डिवीजन के सहायक पुलिस आयुक्त नीता पडवी, वरिष्ठ पुलिस निरीक्षक अनिल मांगले, कलवा पुलिस स्टेशन के निरीक्षक कन्हैया थोराट उपस्थित थे.