इस गांव में बगैर बरसात के ही आ गई बाढ़

  • घरेलू सामान को नुकसान

नवी मुंबई. उरण तहसील में बने हेटवणे जलाशय की मुख्य जलवाहिनी के अचानक फूट जाने से यहां बिना बरसात के ही बाढ़ जैसे हालात पैदा हो गए। यहां फूटी जलवाहिनी के कारण दिघोडे गांव  गांव पानी-पानी हो गया। यहां जलवाहिनी के फूटने से लाखों लीटर पानी बर्बाद हो गया। साथ ही गांव वालों के घरों में पानी घुसने से घरेलू सामान भी भीग गया. पाइप लाइन से बहने वाले पानी को रोकने के लिए हेटवणे जलाशय के पास इस पाइप लाइन में लगे मुख्य वॉल्ब को बंद किया गया तब जाकर हालात सुधरे।

मिली जानकारी के हेटवणे जलाशय से सिडको के क्षेत्रों में जलापूर्ति करने के लिए सिडको के द्वारा मुख्य जलवाहिनी बिछाई गई थी। जहां से सिडको (CIDCO) के तहत आने वाले क्षेत्रों में जलापूर्ति करने का काम जारी है। दिघोडे गांव (Dighode Village) के पास इस जलवाहिनी का एक हिस्सा अचानक फूट गया, जिसकी वजह से इसमें से पानी की ऊंची लहर उठने लगी थी। जिसके चलते इस पाइप लाइन के आस-पास रहने वालों में अफरा-तफरी मच गई थी। 

घरों में घुसा पानी

प्रत्यक्षदर्शियों के मुताबिक मुख्य जलवाहिनी के फूटने से दिघोडेगांव के क्षेत्र में पानी भर गया था। जिसके चलते यहां पर बगैर बरसात के बाढ़ जैसी स्थिति हो गई थी। इस जलाशय से बहने वाला पानी लोगों के घरों में घुस गया। जिसकी वजह से बड़े पैमाने पर घरेलू सामान को नुकसान हुआ है। मुख्य जलवाहिनी से उठ रही पानी की ऊंची लहरें पास के घर की छत पर गिर रही थी, जिसके चलते घर की छत व बरामदे में लगे लोहे के पत्रे तहस-नहस हो गए। यह जलवाहिनी किस वजह से फूटी। इसके बारे में पता नहीं चल पाया है।