Jeans wash factories network spread in rural campus along with urban area of ​​Ambernath, increasing pollution

    अंबरनाथ. अंबरनाथ (Ambernath) के शहरी क्षेत्र के अलावा ग्रामीण हल्कों में भी अनेक स्थानों पर विविध राजनीतिक पार्टियों से जुड़े कुछ लोग सरकारी अधिकारियों के आर्शिवाद से जींस वॉश (Jeans Wash)का अपना कारोबार चला रहे है, जबकि इस काम पर क्षेत्र में प्रतिबंध (Restriction) लगा हुआ है। पहले यह काम उल्हासनगर कैम्प क्रमांक-5 व उसके आसपास चलता था, लेकिन साल 2017 के दौरान अदालत व एनजीटी (NGT) के सख्त आदेश के बाद उल्हासनगर मनपा ने इन कारोबारियों के पानी व बिजली के कनेक्शन काट दिए थे और यह सब सख्ती वालधुनी नदी (Valdhuni River) को प्रदूषित करने का सबब बने जींस वाश कारखाने थे। 

    जानकारी के मुताबिक, इन कंपनियों से एसिड मिला पानी वालधुनी नदी, नालों एवं खेतों में छोड़ा जा रहा है, जानकारों की माने तो 500 से भी अधिक कंपनियां इससे पूर्व उल्हासनगर में चलाई जाती थी। कंपनी मालिकों का कहना है कि उनके पास लाइसेंस हैं, लेकिन यह लोग खुलेआम नियमों का उल्लंघन कर रहे हैं और शहर में प्रदूषण को बढ़ा रहे हैं। ये कंपनियां आनंदनगर एमआईडीसी के पास, विकास पेट्रोल पंप के सामने, लोकनगरी, दीपकनगर, शिवाजीनगर, मोरीवली परिसर स्थित एमआईडीसी, बारकू पाड़ा, बुवापाड़ा, करवले गांव व अन्य परिसर में चलाई जा रही है। 

    नियमों का उल्लंघन

    इनके बारे में यह भी शिकायतें है कि ये अपने मजदूरों के लिए सेफ्टी नियमों का उल्लंघन भी करते है। अंबरनाथ नगरपालिका का स्वास्थ्य और महाराष्ट्र प्रदूषण नियंत्रण विभाग को भी इसकी खबर है, लेकिन यह सरकारी अधिकारी आकर और मालिक से जो सभी राजनीतिक दलों से है, उनके साथ मिलीभगत कर अपनी जेब गर्म करके चले जाते है। एसिड मिला पानी की प्रक्रिया के लिए कंपनी के बाहर प्लांट बनाया गया है, लेकिन वह नाम मात्र अर्थात दिखावा है। इन जींस कंपनियों के कारण आसपास एसिड की बदबू फैली रहती है जो आम आदमी की सेहत के लिए खतरनाक है।