धनतेरस के लिए सज चुकी है ज्वैलरी व बर्तन की दुकानें

अंबरनाथ. शहर व इसके आसपास के हल्कों में दीपावली त्यौहार को लेकर काफी खुशी व उत्साह देखने को मिल रहा है. कार्तिक कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी को धनतेरस का त्यौहार मनाया जाता है. इस साल शुक्रवार 13 नवंबर को धनतेरस मनाया जाएगा. धनतेरस को सोना व बर्तन खरीदने की सदियों पुरानी परंपरा है. शहर के अलग अलग बाजार की ज्वैलरी व बर्तन की दुकानों को दुकानदारों ने खूब सजाया है. 

लॉकडाउन खुलने के बाद दीवाली पहला पर्व है, जिसको लेकर नागरिकों में बेहतर उत्साह व खुशी है. किसी न किसी कारण हर एक इंसान ने कोरोना के संकट का सामना किया है. काफी बुरे दौर से गुजरने के बाद दीपावली के रूप में एक नई खुशी का अहसास लोग महसूस कर रहे हैं. 

शहर के हृदय स्थल समझे जाने वाले शिवाजी चौक स्थित भैरव ज्वेलर्स के मालिक भरत जैन ने बताया कि लोग कोरोना जैसी त्रासदी को भुलाने में लगें है और पर्व को जोरशोर से मनाने की इच्छा है. भरत जैन के अनुसार अब ग्राहकी भी धीरे धीरे बढ़ने लगी है. वहीं जय शंकर मिल्क डेरी नामक मिठाई विक्रेता मनोहर हसीजा ने कहा कि पहले की तुलना के बराबर तो नहीं पर फिर भी ग्राहक बाजार का रुख कर रहे है व जरूरत की सभी चीजें ख़रीद रहे हैं. हसीजा ने कहा कि उन्हें भी कंपनी वालों के ऑर्डर मिले हैं व खुदरा भी काउंटर सेल चालू है. 

जानकार ज्योतिषाचार्यों के मुताबिक, त्रयोदशी 12 नवंबर की शाम से लग जाएगी, ऐसे में धनतेरस की खरीदारी 12 नवंबर को भी की जा सकेगी, हालांकि उदया तिथि में त्यौहार मनाया जाता है, ऐसे में धनतेरस 13 नवंबर को मनाया जाएगा. इस साल छोटी दिवाली या नरक चतुर्दशी 14 नवंबर को मनाई जाएगी, नरक चतुर्दशी पर स्नान का शुभ मुहूर्त सुबह 5:23 से सुबह 6:43 बजे तक रहेगा, चतुर्दशी तिथि 14 नवंबर को दोपहर 1 बजकर 16 मिनट तक ही रहेगी. इसके बाद अमावस्या लगने से दिवाली भी इसी दिन मनाई जाएगी.

15 नवंबर की सुबह 10.00 बजे तक ही अमावस्या तिथि रहेगी, अमावस्या तिथि में रात में भगवान गणेश और मां लक्ष्मी का पूजन किया जाता है, ऐसे में दिवाली भी इस साल 14 नवंबर को मनाई जाएगी. 15 नवंबर 2020 को गोवर्धन पूजा होगी और अंतिम दिन 16 नवंबर को भाई दौज या चित्रगुप्त जयंती मनाई जाएगी, दरअसल इस बार हिंदी पंचांग के अनुसार द्वितीय तिथि नहीं है जिसके कारण तिथि घट रही हैं.  बाजार में मिट्टी के दीपक, रंग बिरंगे आकाश कंदील की रौनक बढ़ा रहें है. बाजार में ग्राहकी अच्छी है.