MMRDA had to take action on illegal construction, angry people beat up the officer

    भिवंडी: भिवंडी तालुका (Bhiwandi Taluka) ठाणे सीमा अंतर्गत स्थित कशेली, काल्हेर परिसर में एमएमआरडीए (MMRDA) द्वारा कई इमारतों को अवैध करार देकर तोड़क कार्रवाई अंजाम दी जा रही है। विगत 15 दिनों से अवैध निर्माणों पर तोड़ू कार्रवाई शुरू होने से उक्त इमारतों में फ्लैट खरीदी करने वाले लोगों के सिर से छत का साया उठ गया है और बारिश (Rain) के दौरान असहाय अवस्था में रहने की मजबूरी झेल रहे हैं। काल्हेर परिसर में तोड़क मिशन की सूचना मिलते ही भिवंडी ग्रामीण शिवसेना विधायक शांताराम मोरे, शिवसेना उप जिला प्रमुख देवानंद थले तत्काल मौके पर पहुंचे और एमएमआरडीए अधिकारियों को समझाने की कोशिश की। शिवसेना विधायक मोरे एवं एमएमआरडीए अधिकारियों की बातचीत के दौरान ही मौके पर मौजूद संतप्त लोगों ने पुलिस की मौजूदगी में ही आक्रोशित होकर एमएमआरडीए अधिकारी प्रधान की पिटाई भी कर दी। पुलिस कर्मियों ने बीच-बचाव कर स्थिति को बेकाबू होने से बचाया।

    गौरतलब है कि एमएमआरडीए क्षेत्र में भिवंडी तालुका की 60 ग्रामपंचायतों का समावेश है। काल्हेर, कशेली आदि ग्रामपंचायत परिसर में भारी संख्या में रहिवासी इमारतों का निर्माण शासन के नियम कानूनों की अनदेखी कर विगत वर्षों में हुआ है। एमएमआरडीए द्वारा ग्रामीण क्षेत्रों में निर्मित कई रहिवासी इमारतों को अवैध करार दिया गया है। क्षेत्र में निर्मित कई इमारतों को कोर्ट द्वारा तोड़े जाने का आदेश दिया गया है और कई इमारतों को हाईकोर्ट ने स्टे दिया है। एमएमआरडीए द्वारा 1 जून से 24 घंटे पूर्व नोटिस देकर अवैध रूप से निर्मित इमारतों को तोड़े जाने की कार्रवाई शुरू की गई है। एमएमआरडीए द्वारा अवैध निर्माण घोषित इमारतों में रहने वाले लोगों का आरोप है कि इमारतों के निर्माण में करीब 4-5 वर्ष का समय लगता है। एमएमआरडीए के अधिकारी भ्रष्टाचार में लिप्त होकर बिल्डरों से पैसा लेकर अवैध बांधकाम को बढ़ावा देते हैं। गरीब फ्लैट धारकों ने राजस्व विभाग को शुल्क देकर रजिस्ट्री कराई है। शासन एवं एमएमआरडीए को अगर निर्माण अवैध है तो इमारत निर्माण से पूर्व कार्रवाई करना चाहिए। बरसात के दौरान अगर इमारत तोड़ी जाएगी तो परिवार के साथ कहां रहेंगे। 

    शिवसेना नेता ने दी जन आंदोलन की चेतावनी 

    शिवसेना उप जिला प्रमुख देवानंद थले ने आरोप लगाते हुए कहा कि ठाणे शहर से बेहद कम दूरी पर स्थित कशेली, कालहेर में ठाणे से कम कीमत पर गरीब लोगों को फ्लैट मिलता है। अल्प दूरी पर ही स्थित बालकुम में दोस्ती बिल्डर द्वारा 50 लाख रुपए कीमत में बेचे जा रहे फ्लैटों के लिए ग्राहक नहीं मिल रहे हैं। एमएमआरडीए की तोड़क कार्रवाई से दोस्ती ग्रुप को फायदा मिलने के आसार हैं। एमएमआरडीए बड़े राजनेता की शह पर गरीबों के आशियाने को ध्वस्त कर दोस्ती ग्रुप बिल्डर की मदद कर रही है। एमएमआरडीए द्वारा तोड़क कार्रवाई नहीं रोके जाने पर जन आंदोलन की चेतावनी शिवसेना नेता थले ने दी है।

    मुख्यमंत्री से करेंगे शिकायत

    एमएमआरडीए अधिकारियों से चर्चा करते हुए क्षेत्रीय शिवसेना विधायक शांताराम मोरे ने बताया कि एमएमआरडीए क्षेत्र में हुए निर्माणों को लेकर मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे सहित नगर विकास मंत्री एकनाथ शिंदे को वस्तुस्थिति से पूरी तरह अवगत कराते हुए लोगों के हित में जरूरी कार्रवाई के लिए निवेदन किया है। एमएमआरडीए अधिकारी मनमानी पूर्ण तरीके से तोडू कार्रवाई को अंजाम दे रहे हैं जिसकी शिकायत मुख्यमंत्री से की जाएगी। भिवंडी पुलिस उपायुक्त योगेश चव्हाण ने एमएमआरडीए अधिकारियों से शांति-व्यवस्था के अनुपालन के लिए किसी भी इमारत की तोड़क कार्रवाई से पूर्व 1 सप्ताह की चेतावनी नोटिस दिए जाने को कहा है। 

    इमारत रहिवासियों को तोड़क कार्रवाई की नोटिस दी गई 

    उक्त संदर्भ में एमएमआरडीए अधिकारी प्रधान का कहना है कि अवैध निर्माण को तोड़ने के लिए हाई कोर्ट ने आदेश दिया है। इमारत रहिवासियों को तोड़क कार्रवाई की नोटिस दी गई है। हाईकोर्ट के निर्देशों का पालन एमएमआरडीए को करना ही पड़ेगा।