केवल 22 मिनट में अधिकांश ग्राहकों की बिजली बहाल

  • महावितरण के अधिकारियों और कर्मचारियों की मेहनत लाई रंग

उल्हासनगर. सोमवार की सुबह महावितरण के कल्याण सर्किल के अंतर्गत 2 लाख 65 हजार बिजली उपभोक्ताओं की बिजली आपूर्ती जीआईएस सेंटर में तकनीकी खराबी के कारण बिजली आपूर्ति बाधित हो गई थी. केवल 22 मिनट में सभी 2 लाख 5 हजार ग्राहकों को बिजली की आपूर्ति बहाल कर दी गई. जो अपने आप में महकमे के लिए बड़ी उपलब्धि है. 

जानकारी के अनुसार कल्याण पूर्व और पश्चिम क्षेत्रों में, सभी ग्राहकों और बिजली की आपूर्ति के सभी विकल्पों का उपयोग करके शाम 5.30 बजे तक क्रमवार तरीके से बिजली बहाल कर दी गई थी. राज्य के ऊर्जामंत्री डॉ.  नितिन राउत और परिमंडल के मुख्य अभियंता दिनेश अग्रवाल के मार्गदर्शन में अधिकारियों और कर्मचारियों ने स्थिति को सामान्य बनाने के लिए लगन से काम किया.

कल्याण महावितरण के मुख्य जनसंपर्क अधिकारी विजयसिंग दुधभाते ने एक प्रेस विज्ञप्ति के माध्यम से बताया की टाटा पावर से कल्याण शहर को बिजली की आपूर्ति करने वाले दो फीडर KB-1 और KB-2, सुबह 10 से शाम 5 बजे तक बंद कर दिए गए थे. केबी -2 फीडर से कल्याण पश्चिम को बिजली की आपूर्ति की जाती है. कल्याण पश्चिम में वायलेनगर, पारनाका, दुर्गाडी, गांधारी रोड, आधारवाड़ी क्षेत्र में लगभग 50,000 उपभोक्ताओं को बिजली की आपूर्ति बाधित हुई. इस बीच, टाटा नेतिवाली क्षेत्र के कल्याण से पूर्व 90 फीट रोड केबी-1 फीडर से बिजली आपूर्ति बाधित हो गई.

इन फीडरों पर संभावित बिजली उपभोक्ताओं को वैकल्पिक फीडर के माध्यम से बिजली की आपूर्ति शुरू करने के लिए युद्ध स्तर पर काम किया गया. 16,000 ग्राहकों को बिजली की आपूर्ति वैकल्पिक मार्ग से सुबह सवा 11 तक और दोपहर तक 50 प्रतिशत से अधिक से शुरू की गई. वैकल्पिक मार्ग के साथ-साथ टाटा पावर से उपलब्ध बिजली के अनुसार, लगभग 50,000 ग्राहकों को शाम 5 बजे तक और 60,000 ग्राहकों को शाम 5.30 बजे तक बिजली बहाल हो गई थी. 

इसके अलावा, पालघर डिवीजन में 20 सबस्टेशन बाधित हो गए और सुबह 10 बजे लगभग 2 लाख 5 हजार ग्राहकों को बिजली आपूर्ति बाधित हुई. सभी 2 लाख 5 हजार ग्राहकों को बिजली की आपूर्ति सिर्फ 22 मिनट में यानी 10:22 बजे आवश्यक कार्रवाई करके बहाल कर दी गई.  कल्याण मंडल के अधीक्षक अभियंता 1 सुनील काकड़े और पालघर मंडल के अधीक्षक अभियंता किरण नागांवकर ने कार्य का निरीक्षण किया और कार्य को गति दी. कल्याण और पालघर के लोग  बिजली आपूर्ति से थोड़े समय के लिए परेशान हुए लेकिन महकमे की टीम ने स्थिति को सामान्य करने के लिए अथक मेहनत की.