चिखलौली डैम से पानी छोड़ो नहीं तो आंदोलन

  • मनसे ने दी चेतावनी

अंबरनाथ. अच्छी बारिश के कारण भले ही चिखलौली डैम लबालब भरा हुआ है, लेकिन अंबरनाथ के लोगों को इस बांध से पानी नहीं मिल रहा है. इस मुद्दे को गंभीरता से लेते हुए मनसे ने इस मामले में आंदोलन की चेतावनी दी है. मनसे के जिला संगठक संदीप लकडे और शहर प्रमुख कुणाल भोईर ने माहाराष्ट्र जीवन प्राधिकरण (एमजेपी) को चेतावनी दी है कि महकमा नागरिकों को बांध से पानी दें या मनसे के क्रोध का सामना करें.

चिखलौली डैम से अंबरनाथ के पूर्वी हिस्से के महालक्ष्मीनगर, शिवाजीनगर, नवरेनगर, बी केबिन रोड़, वडवली आदि परिसर में पानी की आपूर्ति की जाती है. हालांकि अप्रैल और मई में डैम से दूषित पानी की आपूर्ति के कारण नागरिकों ने उस समय डैम से पानी की आपूर्ति नहीं करने की मांग की थी. तब एमजेपी ने यहां से जलापूर्ति बंद कर दी थी, लेकिन अब जीवन प्राधिकरण चिखलोली डैम से पानी न लेकर सीधे एमआईडीसी से पानी लेकर सबंधित परिसर को पानी वितरित कर रहा है. 

इस संदर्भ में शहर अध्यक्ष कुणाल भोईर व जिला संगठक संदीप लकड़े ने बताया कि लोगों का कहना है कि मौजूदा जल आपूर्ति काफी कम है. जिससे अंबरनाथ पूर्व के लोगों की प्यास नहीं बुझ रही है. इस साल की भरपूर बारिश से डैम लबालब भर चुका है, इसके बावजूद इस डैम से पानी की आपूर्ति नहीं की जा रही है. 

परिणामस्वरूप अंबरनाथ के पूर्वी हिस्से में कम पानी की आपूर्ति हो रही है, इस मामले में मनसे ने जीवन प्राधिकरण को 10 दिन का समय दिया था. 10 दिनों में कोई कार्रवाई नहीं होने पर मनसे ने प्राधिकरण के खिलाफ आंदोलन करने की चेतावनी दी है. नागरिकों की प्यास बुझाओ या मनसे के प्रकोप का सामना करो, इस तरह के आंदोलन के लिए मनसे कार्यकर्ताओं ने कमर कस ली है.