मनपा के कोविड और क्वारन्टीन सेंटर में चल रहा है ऑनलाइन योगा

ठाणे. ठाणे मनपा द्वारा बनाए गए ग्लोबल कोविड अस्पताल और कलवा स्थित क्वारन्टीन सेंटर में मरीज ऑनलाइन योग सिख रहे हैं. साथ इनडोर गेम खेलने की भी व्यवस्था की गई हैं. महापौर नरेश म्हस्के के अनुसार, कोरोना के कारण मरीजों को श्वसन संबंधित अनेक बीमारियों का सामना करना पड़ता है ऐसे में योग के माध्यम से श्वसन की समस्याओं को आसानी खत्म किया जा सकता है इसलिए उन्होंने योग कक्षाएं शुरू करने का निर्देश मनपा कमिश्नर को दिया था. 

कोविड-19 का अभी तक वैक्सीन नहीं मिल पाई है. वहीं कोरोना को हराने के लिए भारतीय उपचार अधिक प्रभावी साबित हो रहे हैं. इसका उपयोग विभिन्न स्तरों पर किया जा रहा है जिसमे आयुर्वेद, होम्योपैथी, प्लाज्मा और योग का समावेश हैं. कोरोना एक श्वसन रोग है जो मरीजों में श्वसन समस्याओं का कारण बनता है. इस बीमारी से संक्रमित मरीज योग और प्राणायाम के माध्यम से खुद को ठीक कर सकते है इसलिए प्रशासन ने महापौर नरेश गणपत म्हस्के के इस सुझाव को स्वीकार करते हुए बालकुम स्थित ग्लोबल कोविड सेंटर में ठाणे महानगरपालिका द्वारा शुरू की गई है. ठाणे के घंटाली मित्र मंडल योग प्रशिक्षक द्वारा योग का पाठ ऑनलाइन तरीके से मरीजों को दिया जा रहा हैं. योग प्रशिक्षक गणेश अंबिके ने कहा कि मरीजों के साथ बातचीत करके, उनके मानसिक स्वास्थ्य और मनोबल को बढ़ाया जा रहा है. इस पहल को रोगियों से अच्छी प्रतिक्रिया मिल रही है और इसके सकारात्मक परिणाम आने वाले दिनों में दिखाई देंगे. ठाणे मनपा महापौर ने बताया कि कोरोना मरीज और कोरोना से ठीक होनेवाले मरीज योग के माध्यम से स्वयं स्वास्थ को बेहतर बना सकते है इसलिए योग कक्षाएं शुरू की गई है.

नवरात्र के 9 दिनों तक चल रहा गरबा 

इसी तरह कलवा डेडिकेटेड कोविड हेल्थ सेंटर द्वारा कोरोना मरीजों का मनोबल बढ़ाने के लिए राज्य के गृहनिर्माण मंत्री जितेंद्र आव्हाड और मनपा कमिश्नर डॉ विपिन शर्मा के मार्गदर्शन में परिमंडल-1 के उपायुक्त मनीष जोशी के नेतृत्व में 9 दिनों तक अलग-अलग मनोरंजनात्मक कार्यक्रम का  आयोजन सभी कर्मचारी वर्ग और कोविड मरीज मिलकर कर रहे हैं. यहां पर कर्मचारी वर्ग जहां ड्रेस कोड परिधान कर 9 दिनों तक प्रतिदिन शाम 7.30 से 8.30 बजे तक रुक कर मरीजों के लिए “गरबा” का आयोजन भी कर रहे हैं. इस दौरान धीमी आवाज में गरबा डांस के लिए गाना भी बजाया जा रहा है और मरीज भी हिस्सा लेते नजर आ रहे हैं. साथ ही मरीजों का उत्साह बढ़ाने के लिए ‘बेस्ट गरबा डान्सर अवॉर्ड’ भी प्रतिदिन दिया जा रहा हैं. 

विभिन्न प्रकार की प्रतियोगिता भी मरीजों के लिए रखी गई

परिमंडल-1 के उपायुक्त मनीष जोशी ने “नवभारत” को बताया को यहां पर प्रत्येक दिन जहां कर्मचारी रंग के अनुसार कपड़ें परिधान करके आ रहे हैं. वहीं विभिन्न प्रकार की प्रतियोगिता भी मरीजों के लिए रखी गई है. जिसमें पहले दिन 17 अक्टूबर को शाम 8.30 से 9 बजे तक संगीत कुर्सी का आयोजन किया गया था. जबकि दूसरे दिन 18 अक्टूबर को कर्मचारी नारंगी ड्रेस में आये और मरीजों के लिए चैन गेम आयोजित किया गया. इसी प्रकार 19 अक्टूबर को माफिया गेम, 20 अक्टूबर की दोपहर 3 से 4 बजे तक स्पेशल ऐक्टिविटी  स्टाफ के लिए रखा गया है, जबकि 4 से 4.30 बजे तक मरीजों के लिए अजय द्वारा प्लेयिंग इंसरूमेंट्स बजाया जाएगा. जबकि इसी दिन शाम 6.30 से 7.30 बुद्धीबल स्पर्धा आयोजित की गई है. 21 अक्टूबर की रात  8.30 से 9.30 कैरम स्पर्धा, छठवें दिन 22 अक्टूबर की रात 8.30 से 9.00 बजे तक महिलाओं के लिए मराठी उखाणे, 7 वें दिन 23 अक्टूबर को सभी स्टॉफ के लिए वेशभूषा स्पर्धा ( विविधता में एकता, सर्व धर्म समभाव) रात 8.30 से 9.00 बजे तक आयोजित किया गया है. इसी प्रकार फिल्मों का नाम पहचानने का  गेम और 8 वें 24 अक्टूबर को महिला कर्मचारियों के लिए साड़ी-डे रात 8.30 से 9.00 बजे तक आयोजित किया गया हैं. जबकि नौवें दिन दशहरा मनाया जाने वाला हैं.