भिवंडी में STP प्लांट निर्माण का विरोध

भिवंडी. वराल देवी तालाब स्थित मानसरोवर की बाउंड्रीवाल के समीप पहाड़ी के नीचे निर्मित हो रहे मल निःसारण प्रकल्प (STP Plant) को अन्यत्र ट्रांसफर किए जाने हेतु मानसरोवर-फुलेनगर वासी एकजुट हो गए हैं। मानसरोवर में एसटीपी प्लांट निर्माण के खिलाफ हुई जनसभा में सेना पूर्व विधायक रूपेश म्हात्रे ने शासन व मनपा प्रशासन से लाखों नागरिकों की स्वास्थ्य सुरक्षा के मद्देनजर मानसरोवर क्षेत्र से एसटीपी प्लांट अन्यत्र ट्रांसफर किये जाने की मांग की है।

सेना पूर्व विधायक म्हात्रे नें मनपा नगरसेवकों से विशेष महासभा बुलाकर एसटीपी प्लांट के खिलाफ प्रस्ताव पास कर शासन को भेजने की सलाह दी है। उक्त मौके पर भाजपा वरिष्ठ नगरसेवक सुमित पाटिल, श्याम अग्रवाल, दीपाली पाटिल, पूर्व नगरसेवक प्रसाद पाटिल, संदेश पाटिल, समाजसेवक दिनेश पाटिल, छगन पाटिल, रतन पुरोहित, राजेश शर्मा, महेंद्र प्रताप सिंह, रविंद्र त्रिपाठी, बलराम सिंह, गोपाल सिंह, मिथलेश सिंह, सहित भारी संख्या में रहिवासी उपस्थित थे।

गौरतलब हो कि वराला देवी तालाब स्थित शहर के पाश रहिवासी एरिया मानसरोवर स्थित पहाड़ी के नीचे भूभाग पर मनपा प्रशासन की मंजूरी के उपरांत एसटीपी प्लांट का निर्माण बिगत सप्ताह से ड्रेनेज ठेकेदार द्वारा शुरू है। 2015 में शासन द्वारा एसटीपी प्लांट मंजूर किए जाने के बाद से ही मानसरोवर-फुलेनगर रहिवासी स्वास्थ्य सुरक्षा की खातिर एसटीपी प्लांट का घोर विरोध कर रहे हैं।

भिवंडी मनपा एवं पार्लियामेंट चुनाव के दौरान उक्त मुद्दे को लेकर हजारों क्षेत्रवासी मतदान नहीं किये जाने पर अड़ गए थे। भाजपा सांसद कपिल पाटिल, ठाणे पालक मंत्री एकनाथ शिंदे द्वारा एसटीपी प्लांट रद्द किए जाने का भरोसा देने के बाद लोगों ने मतदान किया, लेकिन चुनाव के बाद जनता से किया वादा नेता भूल गए और लोगों ने यहां एक बार फिर सड़कों पर उतरकर जनांदोलन की चेतावनी दी है।