17 डॉक्टरों के वेतन में कटौती का आदेश

  • स्वास्थ्य सेवा को लेकर मनपा आयुक्त हुए सख्त

नवी मुंबई. पिछले दिनों मनपा आयुक्त ने नवी मुंबई महानगरपालिका (Navi Mumbai Municipal Corporation) के सार्वजनिक अस्पताल वाशी (Public hospital vashi) का औचक दौरा किया था। इस दौरे के दौरान उन्होंने इस अस्पताल में अपनी सेवाएं देने वाले डॉक्टरों के उपस्थिति रजिस्टर की जांच की, जिसमें इस अस्पताल में बतौर ऑनकॉल मेडिकल ऑफिसर (डॉक्टर) काम करने वाले 18 डॉक्टरों को अनुपस्थित पाया गया था। इन उनुपस्थित कर्मियों को मनपा आयुक्त ने कारण बताओ नोटिस जारी किया था, जिसका समाधानात्मक जबाब नहीं देने वाले 17 डॉक्टरों के वेतन में कटौती करने का आदेश मनपा आयुक्त ने दिया है। वहीं इस मामले में अस्पताल के स्वास्थ्य अधिकारी से मनपा आयुक्त ने अंतिम नोटिस जारी करते हुए इस मामले में स्पष्टीकरण मांगा है।

बेहतर स्वास्थ्य सेवा मुहैया कराने पर जोर 

गौरतलब है कि नवी मुंबई मनपा के क्षेत्र में रहने वाले नागरिकों को मनपा आयुक्त अभिजीत बांगर (Navi Mumbai Municipal Commissioner Abhijeet Bangar) ने बेहतर स्वास्थ्य सेवा मुहैया कराने पर जोर दिया है, जिसके लिए उनके द्वारा मनपा अस्पतालों का औचक दौरा करने का सिलसिला जारी रखा है। 8 दिसंबर को मनपा आयुक्त ने वाशी स्थित मनपा की सार्वजनिक अस्पताल का अचानक दौरा किया था। उस समय इस अस्पताल अपनी सेवाएं देने वाले डॉक्टरों के उपस्थिति रजिस्टर की जांच में 18 आनकॉल मेडिकल आफिसर (डॉक्टरों) के इस रजिस्टर में हस्ताक्षर नहीं पाए गए थे। जिसके बारे में स्पष्टीकरण मांगने के लिए मनपा आयुक्त ने उक्त सभी डॉक्टरों को कारण बताओ नोटिस जारी किया था।

बेहतर स्वास्थ्य सेवा देना बंधनकारक

मनपा आयुक्त बांगर ने मनपा के सभी अस्पतालों में अपनी सेवाएं देने वाले डॉक्टरों से लेकर क्षेणी 4 तक के कर्मचारियों को मनपा क्षेत्र के नागरिकों को बेहतर स्वास्थ्य सेवा देना बंधनकारक बताया है। इसके साथ ही मनपा आयुक्त ने बगैर पूर्व अनुमति के कोई भी डॉक्टर या श्रेणी 4 तक के कर्मचारी अनुपस्थित रहेंगे तो ऐसे लोगों के खिलाफ कानून के तहत सजा का प्रवधान है। इस बात को ध्यान में रखकर सभी को काम करना होगा।