क्वारंटाइन मरीजों ने किया अधिकारी, कर्मचारियों की मनमानी का विरोध

रात 10 बजे किया शिफ्टिंग लिए तंग

प्रशासन का विरोध करते हुए मरीजों ने  खाना छोड़ा

कल्याण. मनपा की प्रशासन की मनमानी एवं लापरवाही के कई मामले प्रतिदिन सामने आ रहे है. स्वास्थ्य सेवाओं की भारी कमी के साथ ही किसी ना किसी वजह से मरीजों को तंग किया जा रहा है. अपने छोटे बच्चों के साथ क्वारंटाइन सेंटर में रह रहे मरीजों को शिफ्टिंग के लिए रात के 10-10 बजे  तंग किया जा रहा है, जिससे मरीजों में प्रशासन के प्रति गुंसा फूट पड़ा और महिला मरीजों ने अधिकारी, कर्मचारियों को खूब का खरीखोटी सुनाते हुए शिफ्टिंग करने से साफ इंकार करते हुए  खाना भी छोड़ दिया.

मिली जानकारी के अनुसार कुछ मरीजों को पहले टाटा आंमत्रण में रखा और कुछ दिनों बाद उनको वेदांता में शिफ्ट कर दिया गया और फिर कुछ दिन बाद एक रात 10 बजे मनपा अधिकारी, कर्मचारी, पुलिस के साथ आ धमके और उनको कहा कि आपको यहां से अभी शिफ्ट करना है. इस बात पर अपने छोटे-छोटे निगेटिव रिपोर्ट के बच्चों के साथ क्वारंटाइन महिला मरीज का गुस्सा फूट पड़ा और उसने प्रशासन की उदासीनता, लापरवाही की पोल खोलते हुए अधिकारी, कर्मचारियों को आड़े हाथों लिया.

महिला मरीजों ने कहा कि कोई टेस्ट नहीं कर रहे हो, बिना टेस्ट किए छोड़ रहे हैं, यहां कोई डॉक्टर तो मरीजों की सुध लेने आते नहीं और कोई रिपोर्ट नहीं देते. फिर भी बार बार शिफ्टिंग के नाम पर परेशान करते हो पहले टाटा आमंत्रण में रखा और उसके बाद यहां वेदांता में रखा गया और अब रात को 10 बजे आकर यहां से भी शिफ्टिंग के लिए तंग कर रहे हो, हम कहीं नही जाएंगे भले ही हम अपने घर चलें जाएंगे. वहीं क्वारंटाइन रहेंगे वैसे भी 10 दिन हो गए हैं. ऐसा कहते हुए सभी मरीजों ने काफी तमासा खड़ा करते हुए खाना भी त्याग दिया, इस पूरी घटना का वीडियो वायरल हो गया है. इस पूरे मामले की अधिक जानकारी कर लिए मनपा आरोग्य अधिकारी डॉ. सुहाष कदम को फोन किया मगर उन्होंने फोन नही उठाया.