लैब बंद होने की फैलाई गई अफवाह

  • कमिश्नर ने कहा जारी है नमूनों की जांच 
  • 3 शिफ्ट में हो रहा लैब में काम 

नवी मुंबई. नेरुल स्थित मनपा की आरटी-पीसीआर लैब के बंद होने की अफवाह कुछ दिनों से सोशल मीडिया पर फैलाई जा रही थी. जिसे गंभीरता से लेते हुए मनपा कमिश्नर ने इस तरह की अफवाहों पर ध्यान नहीं देने की अपील नागरिकों से की है. मनपा कमिश्नर ने मीडिया को बताया कि लैब में बगैर किसी रूकावट काम शुरू है. जिसमें हर दिन कोरोना के संक्रमण के नमूनों की जांच 3 शिफ्ट में की जा रही है.

आरटी-पीसीआर लैब के बारे में जानकारी देते हुए मनपा कमिश्नर अभिजीत बांगर ने मीडिया को बताया कि यह ऑटोमेटिक पद्धति वाली अत्याधुनिक लैब है. इसके रखरखाव में ज्यादा समय नहीं लगता है. इसलिए इस लैब में बगैर किसी रुकावट के नमूनों की जांच का काम जारी रहता है. उन्होंने बताया कि इस लैब में मैन पावर की कोई कमी नहीं है. मौजूदा समय में इस लैब में कुल 24 लोग 3 शिफ्ट में काम कर रहे हैं. जिसकी बदौलत 24 घंटे के भीतर जांच रिपोर्ट मिल रही है.

समय और पैसों की हो रही बचत 

मनपा कमिश्नर बांगर के अनुसार, आरटी-पीसीआर लैब को 4 अगस्त से शुरू किया गया है. जिसके बाद से समय और पैसे की बचत हो रही है. उन्होंने बताया कि इसके पहले जिस टेस्ट के लिए मनपा अन्य लैब को 2200 रुपए दिया करती थी. अब वही टेस्ट मनपा की अपनी लैब में किया जा रहा है. जिसके लिए 700 रुपए का खर्च आ रहा है. मनपा कमिश्नर के मुताबिक 4 अगस्त से अब तक इस लैब में 30 हजार से अधिक नमूनों का टेस्ट इस लैब में किया गया है. जिसके चलते मनपा को 4 करोड़ से अधिक रुपए की बचत हुई है.