Research: Scientists explain the results of the continued spread of Covid-19
File

लाखों लोगों पर मंडरा रहा महामारी संक्रमण का खतरा 

भिवंडी. भिवंडी शहर में वैश्विक महामारी कोरोना का प्रचंड प्रकोप समूचे शहर में फैल गया है. शहर की अधिकांश रहिवासी बस्तियों में नित्य दर्जनों कोरोना वायरस संक्रमित मरीज पाए जाने से समूचे शहर में कोहराम मच गया है. शहर के नागरिकों को कोरोना संक्रमण प्रसार से सुरक्षित रखे जाने हेतु भिवंडी मनपा की महासभा द्वारा 15 दिनों हेतु लिए गए कंटेनमेंट फैसले के मात्र 10 दिन में भिवंडी शहर में 1003 कोरोना मरीज पाए गए एवं 81 लोगों की मौत हो चुकी है. मनपा प्रशासन की लाख कोशिशों के बावजूद भी कोरोना वायरस संक्रमण का प्रकोप थम नहीं रहा है, जिससे शहरवासियों में अब अपनी जान बचाने की चिंता सताने लगी है और रातों की नींद उड़ गई है. महामारी संक्रमण से परिजनों को बचाए जाने हेतु शहर के धनाढ्य लोग अपने निजी वाहनों में परिजनों को लेकर मुलुक पलायन कर रहे हैं.

प्रतिदिन सैकड़ों लोग अपने वाहनों से कर रहे पलायन 

 गौरतलब हो कि पावरलूम नगरी भिवंडी शहर में कोरोना महामारी का प्रसार बेहद तेजी से हो रहा है. कोरोना संक्रमण के बढ़ते प्रसार की चपेट में विगत 15 दिनों के दौरान समूचा भिवंडी शहर आ चुका है. भिवंडी शहर में चाहे पाश एरिया हो अथवा झोपड़पट्टी एरिया या पावर लूम एरिया सभी क्षेत्रों में कोरोना महामारी का व्यापक प्रसार हो चुका है. विगत 25 जून ईद त्यौहार के उपरांत लोगों की लापरवाही की वजह से कोरोना महामारी का प्रसार बेहद तेजी से होने से समूचा शहर महामारी की चपेट में है. शासन के निर्देशों व मनपा प्रशासन द्वारा महामारी संक्रमण प्रसार रोकने हेतु लागू की जा रही तमाम उपाय योजनाओं का कोई भी सार्थक लाभ मिलता दिखाई नहीं पड़ रहा है. शहर स्थित मिल्लत नगर, निजामपुरा, संगम पाड़ा, अवचित पाड़ा, शांति नगर, गायत्री नगर, ईदगाह रोड, भंडारी कंपाउंड, अंजुर फाटा, कामत घर, पद्मानगर, नवी बस्ती आदि रहिवासी इलाके कोरोनाा महामारी की हॉटस्पॉट बन चुके हैं. भिवंडी शहर से प्रतिदिन सैकड़ों लोग अपने वाहनों से परिवार को लेकर यूपी, बिहार, राजस्थान आदि शहरों की तरफ पलायन कर रहे हैं, जिससे परिजनों की जान पर कोई आंच ना आने पाए. भिवंडी शहर में प्रतिदिन महामारी मरीजों का आंकड़ा सैकड़ों की तादाद में पहुंचने से शहरवासियों में जीवन सुरक्षाा के प्रति बेहद चिंताा व्याप्त है जिससे रात की नींद उड़ गई है. जागरूक शहरवासियों की मानें तो, भिवंडी शहर में कोरोना प्रत्येक घर की चौखट पर दस्तक दे चुका है.

कन्टेन्टमेंट जोन हुआ बेअसर

महामारी कोरोना प्रसार को रोकने हेत मनपा महासभा द्वारा सर्वसम्मत से 18 जून से 3 जुलाई तक अर्थात 15 दिनों तक भिवंडी शहर कंटेनमेंट जोन घोषित कर दुकाने आदि बंद कराए जाने का मामला कोरोना मरीजों के बढ़ते आंकड़ों को देखते हुए पूर्णतया निरर्थक साबित हुआ है. भिवंडी शहर 18 जून से कंटेनमेंट जोन घोषित होने के पूर्व कोरोना मरीजों का आंकड़ा 687 व 25 लोगों की मौत हो चुकी थी, बावजूद कंटेनमेंट जोन घोषणा के 10 दिनों के उपरांत भिवंडी शहर में चारों ओर कोरोना संक्रमण का प्रसार बेहद तेजी से फैल गया है. भिवंडी शहर में कोरोना मरीजों का आंकड़ा 1690 पहुंच गया है और 97 लोगों की मौत हुई है. 692 लोग उपचार के दौरान ठीक हुए व करीब 1000 कोरोना संक्रमित मरीजों का इलाज कोविड अस्पतालों में चल रहा है.  भिवंडी नवनियुक्त मनपा आयुक्त डॉ. पंकज आसिया की मानें तो कोरोना प्रसार को रोके जाने हेतु 10 दिन की समय सीमा तय करते हुए सार्थक उपाय योजनाओं पर काम करना शुरू कर दिया है, जिसका असर भी परिलक्षित हो रहा है.