भारत बंद में शक्ति प्रदर्शन करेगी शेकापा

  • भारत बंद में शक्ति प्रदर्शन की तैयारी में शेकाप
  • पनवेल की बैठक में नेताओं ने दिए संकेत

नवी मुंबई. मोदी सरकार का कृषि कानून किसान विरोधी है. इसके खिलाफ शेकाप ने रविवार को पनवेल में एक बैठक की जिसमें 26 नवंबर को भारत बंद आंदोलन के लिए रणनीतियों पर चर्चा की गयी. 

शेकाप महासचिव विधायक जयंत पाटील की अध्यक्षता में आयोजित इस बैठक में विधायक बालाराम पाटिल, योगिता पारधी, गणेश कड़ू, जेएम म्हात्रे, मनपा में नेता विपक्ष प्रीतम म्हात्रे, राजेन्द्र पाटिल, आरडी घरत समेत तमाम पदाधिकारी मौजूद थे. 

जिलाधिकारी कार्यालय पर मोर्चा निकालने का ऐलान

जयंत पाटिल ने यहां मोदी सरकार की नीतियों को किसान विरोधी बताया और 26 नवंबर को जिलाधिकारी कार्यालय पर मोर्चा निकालने का ऐलान किया. विरोधी दल मोदी सरकार के खिलाफ अपनी ताकत दिखाना चाहते हैं. शेकाप की यह बैठक पार्टी की ताकत को परखने के लिए आय़ोजित की गयी थी. गौरतलब है कि यूपीए घटकों ने 26 नवंबर को ही राष्ट्रव्यापी आंदोलन की घोषणा की है. बालाराम पाटील ने कहा कि केन्द्र सरकार 360 डिग्री में कानून बदलने की तैयारी में है जिसे हम होने नहीं देंगे.यहां नेताओं ने श्रम संगठनों और किसानों से भारत बंद में शामिल होने का आव्हान भी किया. हालांकि शेकाप की इस कवायद को पनवेल में अपनी खोयी हुई जमीन  तलाशने की कोशिश माना जा रहा है.