सामाजिक संस्था व ट्रस्ट भी कर रहे कृषि बिल का विरोध

ठाणे. केंद्र सरकार के द्वारा पारित किए गए किसान बिल के विरोध में अब देश की सामाजिक संस्था व ट्रस्ट भी आ रहे हैं. सतगुरु तेरी ओट ट्रस्ट व गुरुनानक दरबार की अध्यक्षा माता देविंदर कौर ने पत्रकारों से बातचीत के दौरान बताया कि हम भी किसान परिवार से हैं और गांव से ही आकर शहर में बसे हुए हैं.

उन्होंने केंद्र सरकार की ओर से पारित किये गए किसान बिल देश के किसानों के हित में नहीं है. इसलिए आज देश के किसान सड़क पर उतर गए हैं. सरकार का कहना है कि इससे किसानों को बहुत बड़ा लाभ मिलेगा, लेकिन सरकार के जनप्रतिनिधियों ने इस बिल संबंधित जानकारियां बताने के लिए असमर्थ हैं. यही कारण है कि देश का किसान अपने बाल गोपाल के साथ में अपनी मांग के लिए सड़क पर बैठा हुआ है.

उन्होंने कहा कि जिस तरह से हम अपने परिवार का पालन पोषण करने के लिए ध्यान रखते हैं उसी तरह से किसानों पर भी ध्यान रखना चाहिए. किसान भी देश के जनता के लिए मां की ही भूमिका निभाता है. लेकिन हमारे देश की सरकार विदेशी कृषि तकनीकी को लेकर आती है, लेकिन विदेशों में किसान कितने अमीर हैं उस पर देश की सरकार का ध्यान बिल्कुल नहीं रहता है कि हमारे देश के किसान कितने गरीबी रेखा में अपना जीवन यापन कर रहे हैं कि अपने बच्चों को शिक्षा देने के लिए भी असमर्थ हैं.

सरकार कार्पोरेट जगत को विकास के लिए लेकर आती है, लेकिन सरकार में शामिल जनप्रतिनिधि उस जानकारी को किसानों को बताने के लिए असमर्थ साबित हुए. जबकी इसकी जानकारी विस्तार पूर्वक किसानों को देनी चाहिए थी. लेकिन जनप्रतिनिधियों के इस भूल का खामियाजा सरकार को भुगतना पड़ेगा. उन्होंने कहा कि देश के किसान सड़क पर उतर गए हैं. इसलिए सरकार को चाहिए कि इस बिल में संशोधन कर किसानों को विश्वास में लेना चाहिए.