Thane traders protest against full-time lockdown

    ठाणे. ठाणे (Thane) के व्यापारियों में लाकडाउन (Lockdown) को लेकर जारी सरकारी निर्देशों को लेकर असमंजस की स्थिती बनी हुई है। इनका कहना है कि सख्त प्रतिबंध (Strict Restrictions) से किसी तरह का परहेज नहीं है, लेकिन पूर्णकालिक लाकडाउन नहीं चाहिए। व्यापारियों ने मंगलवार को हाथों में इस तरह के फलक लेकर नाराजगी जताई। इनका कहना है कि लाकडाउन से व्यापारियों ही नहीं हर वर्ग की आर्थिक स्थिति निश्चित तौर पर चरमरा जाएगी।  व्यापारियों के एक शिष्टमंडल ने भाजपा विधायक संजय केलकर (BJP MLA Sanjay Kelkar) के नेतृत्व में ठाणे के जिलाधिकारी राजेश नार्वेकर (Rajesh Narvekar) से मुलाकात कर निवेदन दिया। जिसमें लाकडाउन में कुछ हद तक नरमी देने की मांग की गई है।

    शिष्टमंडल में भाजपा ठाणे शहर जिला अध्यक्ष और विधायक निरंजन डावखरे और भाजपा व्यापारी संगठन के ठाणे अध्यक्ष मितेश शाह भी शामिल थे। राज्य सरकार की तरफ से घोषित लाकडाउन को लेकर सामान्य नागरिकों के साथ ही कारोबारी, व्यापारी, उद्योगपति और दुकानदार विरोध कर रहे हैं। कहा गया है कि एक तो पहले ही लोगों की आर्थिक स्थिति बहुत खराब है।  लॉकडाउन के कारण उनकी स्थिति और भी बिगड़ेगी। इन बातों का उल्लेख जिलाधिकारी राजेश नार्वेकर को दिए गए निवेदन में विधायक केलकर ने किया है। हर दिन लॉकडाउन से लोगों को भोजन की समस्या भी आ सकती है, छोटे दुकानदारों, व्यापारी तथा कारोबारियों की कमाई का जरिया ही समाप्त हो जाएगा। राज्य सरकार से आग्रह किया गया है कि वे लोगों का अर्थचक्र बाधित नहीं करें। स्थायी लॉकडाउन का सबसे बुरा असर गरीबों पर पड़ेगा। एक तो सरकार प्रभावित परिवारों को एक पैसे की भी मदद नहीं दे रही है।

    पूर्णकालिक लॉकडाउन ठाणेकरों को नहीं चाहिए

    वर्तमान परिस्थिति को देखते हुए विधायक संजय केलकर और भाजपा शहर अध्यक्ष निंजन डावखरे ने ठाणे के नौपाड़ा परिसर के व्यापारियों तथा भाजपा ठाणे शहर व्यापारी संगठन अध्यक्ष मितेश शाह के साथ ठाणे जिलाधिकारी नार्वेकर से मुलाकात कर उन्हें ज्ञापन दिया। साथ ही मांग की गई कि पूर्णकालिक लॉकडाउन ठाणेकरों को नहीं चाहिए।