सेंट्रल अस्पताल कैम्पस की सड़कों की स्थिति खराब

  • मरीजों व अस्पताल में कार्यरत स्टॉफ परेशान

उल्हासनगर. उल्हासनगर कैम्प क्रमांक 3 स्थित  सरकारी सेंट्रल अस्पताल कैम्पस की सड़क की हालत काफी खराब है. सड़क में बड़ी संख्या में गड्ढे हैं, जिससे मरीजों का चलना मुश्किल हो जाता है. इसी तरह वाहन चालकों के लिए सड़क मुसीबत का सबब बनी हुई है. इस संबंध में मनपा की नगरसेविका सविता तोरणे-रगडे ने राज्य के लोक निर्माण विभाग के पास एक लिखित शिकायत दर्ज  की है और मांग की है कि सड़कों की मरम्मत जल्द से जल्द की जाए. उल्हासनगर का सेंट्रल अस्पताल एक सरकारी अस्पताल है और यहां  मरीज न केवल उल्हासनगर बल्कि आसपास के शहरों और ग्रामीण क्षेत्रों से भी इलाज के लिए यहां आते हैं.  

अस्पताल में  रोगियों की लगातार हलचल रहती है. अस्पताल में प्रवेश करते ही अस्पताल के अंदर की सड़कें, ओपीडी से लेकर मुर्दाघर और अस्पताल के पीछे तक पूरी तरह सड़क खराब हो चुकी है. इससे मरीजों का यहां से निकलना दुश्वार हो गया है और रिक्शा, एंबुलेंस और मोटरसाइकिलों के लिए सड़क खतरनाक हो गई है ऐसी स्थिति में दुर्घटना की संभावना रहती है.

इस संबंध में नगरसेविका सविता तोरणे-रगडे ने राज्य के लोक निर्माण विभाग के पास लिखित शिकायत की है और मांग की है कि सड़क का निर्माण जल्द से जल्द किया जाए.  इस बारे में पूछे जाने पर सेंट्रल अस्पताल के अधीक्षक डॉ. सुधाकर शिंदे ने कहा, हमने महाराष्ट्र सरकार से सड़क की मरम्मत के लिए बार-बार अनुरोध किया है. लोक निर्माण विभाग ने मरम्मत कार्य के लिए 19 लाख रुपए का टेंडर भी जारी किया है. हालांकि कोविड-19 की स्थिति के कारण पिछले 7 महीनों से काम शुरू नहीं हुआ है. डॉ. शिंदे को उम्मीद है कि काम जल्द शुरू होगा.