पश्चिम रेलवे ने चलाई पहली किसान रेल

  • 180 टन प्याज लेकर गुवाहाटी रवाना

मुंबई. कृषि उत्पाद को अन्य राज्यों के मार्केट में तेजी से पहुंचाने के लिए पश्चिम रेलवे की पहली किसान रेल 24 नवम्बर को 180 टन प्याज लेकर रवाना हुई रवाना की गई. लक्ष्मीबाई नगर स्टेशन से न्यू गुवाहाटी के लिए निकली पहली किसान रेल को सांसद शंकर लालवानी, मंडल रेल प्रबंधक तथा अन्य लोगों की उपस्थिति में इंदौर के निकट हरी झंडी दिखाकर रवाना किया गया. पश्चिम रेलवे के महाप्रबंधक आलोक कंसल के मार्गदर्शन में आत्मनिर्भर भारत अभियान के तहत ऑपरेशन ग्रीन को साकार करते हुए यह ट्रेन चलाई जा रही है. 

पश्चिम रेल ने एक प्रेस रिलीज जरी कर कहा कि लक्ष्मीबाई नगर- न्यू गुवाहाटी साप्ताहिक स्पेशल किसान रेल लक्ष्मीबाई नगर से प्रत्येक मंगलवार 3 बजे रवाना होकर प्रत्येक गुरुवार को 3.25 बजे न्यू गुवाहाटी पहुंचेगी. ट्रेन सं. 00908 न्यू गुवाहाटी-लक्ष्मीबाई नगर साप्ताहिक स्पेशल किसान रेल न्यू गुवाहाटी से 26 नवम्बर से प्रत्येक गुरुवार रात 10 बजे रवाना होकर प्रत्येक शनिवार को रात 10.15 बजे लक्ष्मीबाई नगर पहुंचेगी. इस ट्रेन में कुल 20 डिब्बे हैं, जिनमें से 18 डिब्बों में प्रति डिब्बे 10 टन प्याज था तथा अन्य दो डिब्बों को अन्य स्टेशनों से लोडिंग के लिए खाली रखा गया। यह ट्रेन दोनों दिशाओं में संत हिरदाराम नगर, बीना, झाँसी, कानपुर, लखनऊ, गोरखपुर, छपरा, हाजीपुर, कटिहार, किशनगंज, न्यू जलपाईगुड़ी तथा चांगसारी स्टेशनों पर रुकेगी.

सीपीआरओ सुमित ठाकुर के अनुसार, सभी किसानों के कृषि उत्पादों विशेषकर जल्द खराब होने वाले उत्पादों को अपेक्षाकृत कम मूल्य में देश के अन्य भागों में पहुंचाकर किसान रेल उनकी फसल का सही मूल्य दिलाने में मदद करेगी. 50 से 100 किलोग्राम का छोटा कंसाइनमेंट भी ट्रेन रुकने के किसी भी स्टेशन से ट्रेन के अन्य ठहराव वाले किसी भी स्टेशन के लिए बुक किया जा सकता है. खाद्य प्रसंस्करण उद्योग मंत्रालय द्वारा प्रदान की जा रही 50 प्रतिशत सब्सिडी से किसानों को अपने उत्पादों के बेहतर परिवहन में विशेष सहायता मिलेगी. 

ठाकुर ने बताया कि किसान रेल केन्द्र सरकार द्वारा किसानों की आमदनी बढ़ाने की प्रतिबद्धता का एक बेहतरीन प्रतीक है. आलू और प्याज़ के साथ-साथ जल्द खराब होने वाले फलों और सब्ज़ियों की व्यावसायिक मांग को देखते हुए किसान रेल स्पेशल ट्रेन को चलाने का निर्णय लिया गया, जो आत्मनिर्भर भारत अभियान के अंतर्गत ऑपरेशन ग्रीन को साकार करते हुए चलाई जा रही है.

किसान रेल केन्द्र सरकार द्वारा किसानों की आमदनी बढ़ाने की प्रतिबद्धता का एक बेहतरीन प्रतीक है. आलू और प्याज़ के साथ-साथ जल्द खराब होने वाले फलों और सब्जियों की व्यावसायिक मांग को देखते हुए किसान रेल स्पेशल ट्रेन को चलाने का निर्णय लिया गया है.

-सुमित ठाकुर, मुख्य प्रवक्ता, पश्चिम रेल