TMC का फरमान, तीस साल पुरानी इमारतों का होगा स्ट्रक्चरल ऑडिट

    ठाणे. ठाणे महानगरपालिका (Thane Municipal Corporation) प्रशासन हमेशा की तरह इस साल भी 30 साल पुरानी इमारतों (Old Buildings) का स्ट्रक्चरल ऑडिट (Structural Audit) कराने का फरमान जारी किया है। साथ ही इस फरमान की अनदेखी करने पर 25 हजार रुपए का जुर्माना भी लगाया जाएगा। हालांकि ठाणेकर मनपा के इस आदेश की खुलेआम अनदेखी करते हुए साफ दिखाई दे रहे हैं। इसके साथ ही खुद मनपा प्रशासन भी ऐसी इमारतों पर दंडात्मक कार्रवाई करने से कतरा रहा है।

    पिछले तीन वर्षों की कालावधि में शहर में केवल 6,000 पुरानी इमारतों का स्ट्रक्चरल ऑडिट हुआ है और आदेश की अवहेलना करने वाले केवल दो के खिलाफ कार्रवाई की गई है। इसलिए शेष हजारों इमारतों की सुरक्षा राम भरोसे हैं। ऐसे में यह सवाल उठाया जा रहा है कि भविष्य में किसी तरह की दुर्घटना होती है, तो आखिरकार उसका जिम्मेदार कौन होगा?

    स्ट्रक्चरल ऑडिट को कर दिया अनिवार्य

    छह साल पहले ठाणे के नौपाड़ा इलाके में कृष्णा निवास नामक इमारत के गिरने से 12 लोगों की मौत हो गई थी। इस हादसे के बाद शहर में खतरनाक और 30 साल पुरानी इमारतों का मामला जोर पकड़ने लगा था। सरकारी नियमानुसार पुरानी इमारतों का स्ट्रक्चरल ऑडिट कराकर मनपा में उससे संबंधित रिपोर्ट जमा कराने की अपील की गई। हालांकि मनपा की इस अपील की खासा प्रतिक्रिया लोगों से नहीं मिली। इस कारण प्रशासन ने स्वयं लेखा परीक्षकों का एक पैनल नियुक्त किया और सोसायटी अथवा वहां के निवासियों के लिए स्ट्रक्चरल ऑडिट को अनिवार्य कर दिया। इसके बाद भी नागरिकों की खास प्रतिक्रिया नहीं मिलने के बाद मनपा ने आखिरकार जुर्माना लगाने की प्रक्रिया शुरू कर दी। इसके तहत जिन इमारतों में रहने वाले निवासियों ने स्ट्रक्चरल ऑडिट नहीं किया, उन पर 25,000 रुपए का जुर्माना लगाया गया। उन्होंने जुर्माने की राशि को सीधे संपत्ति कर बिल में जोड़ने का भी सुझाव दिया। हालांकि, स्ट्रक्चरल ऑडिट की का मामला थमने की जानकारी सामने आई है।

    फिर हुई शुरू दंडात्मक कार्रवाई  

    प्रशासन ने बताया कि पिछले तीन वर्षों में ठाणे मनपा क्षेत्र में केवल 6,000 इमारतों की स्ट्रक्चर ऑडिट हुई है। प्रारंभ में केवल दो सोसायटियों को दंडित किया गया था। पिछले साल कोरोना संकट के बाद से दंडात्मक कार्रवाई ठंडी पड़ी है, लेकिन प्रशासन ने फिर से दंडात्मक सजा के हथियार को अपने हाथ में ले लिया है। शहर के सभी 30 साल पुरानी इमारतों का स्ट्रक्चरल ऑडिट कराने के निर्देश जारी कर रिपोर्ट देने के निर्देश दिए गए हैं। साथ ही 96 स्ट्रक्चरल ऑडिटर की सूची प्रकाशित की गई है।

    4523 इमारत खतरनाक, 73 अति जर्जर

    बताया गया कि ठाणे महानगरपालिका क्षेत्र में 4 हजार 523 इमारत खतरनाक स्थिति में हैं, जबकि 73 इमारतों की स्थिति ऐसी है कि वह किसी भी समय जमींदोज हो सकती है।  

    शहर में हजारों इमारत 30 साल पुरानी

    मनपा की इस सूची के अलावा शहर में हजारों इमारतें ऐसी हैं, जिनका निर्माण 30 साल और उससे पहले की गई है। सरकारी नियमों के मुताबिक ये सभी इमारतें खतरनाक हैं। इनकी सबसे अधिक संख्या नौपाड़ा, कोपरी, किसननगर, वागले इस्टेट में है।