प्रतीकात्मक तस्वीर
प्रतीकात्मक तस्वीर

    ठाणे. ठाणे सेंट्रल क्राइम ब्रांच (Thane Central Crime Branch) ने  मीरा-भायंदर (Mira-Bhayander) के यूएलसी घोटाले (ULC Scam) में फरार मीरा-भायंदर महानगपालिका के टाउन प्लानर (Town Planner) को दिलीप घेवारे को गुजरात (Gujarat) के सूरत से पकड़ा। घेवारे को ठाणे न्यायालय ने  28 तारीख तक कि पुलिस हिरासत में भेजा है। घेवारे की अग्रिम जमानत याचिका पर आज ही सेशन कोर्ट में सुनवाई थी, लेकिन उससे पहले वह पुलिस के हाथ लग गया। पिछले कुछ समय से घेवारे गायब था और पुलिस उसकी तलाश में लगी थी । 

     ज्ञात हो कि पिछले दिनों पुलिस ने सहायक नगर रचनाकार सत्यवान घनेगावे, पालघर के जिलाधिकारी कार्यालय में कार्यरत कनिष्ठ सर्वेयर भरत कांबले तथा ज्युनियर आर्किटेक्ट चंद्रशेखर लिमये को गिरफ्तार किया था। यूएलसी घोटाल में 10 नवंबर 2016 को ठाणे नगर पुलिस स्टेशन में पांच बिल्डरों के खिलाफ आईपीसी 420 सहित अन्य कई धाराओं में मामला दर्ज किया गया था। 

    बिल्डर और अधिकारियों की मिलीभगत से करोड़ों के घोटाले को अंजाम दिया गया था

    बिल्डर और अधिकारियों की मिलीभगत से करोड़ों के घोटाले को अंजाम दिया गया था। मामले एक आरोपी बिल्डर शैलेश शाह की मृत्यु हो गयी है। पिछले दिनों मामले की एक बार फिर फाइल खुली और ठाणे क्राइम ब्रांच के डीसीपी लक्ष्मीकांत पाटिल के मार्गदर्शन में जांच को फिर गति मिली है । इससे पूर्व पुलिस ने श्यामसुंदर अग्रवाल, विश्वरूप पारकर  ,शैलेश शाह , मनोज पुरोहित, रतिलाल जैन को गिरफ्तार किया था। सभी के ख़िलाफ न्यायालय में मार्च 2017 में आरोपपत्र दायर किया गया था।