Water logging on the road due to closure of flyover drainage system, drivers are facing problems

    भिवंडी. भिवंडी (Bhiwandi) में एमएमआरडीए (MMRDA) द्वारा निर्मित स्व. बालासाहेब ठाकरे फ्लाईओवर के निर्माण में लापरवाही बरते जाने का गंभीर मामला प्रकाश में आया है। एमएमआरडीए द्वारा 6 माह पूर्व अशोकनगर (Ashoknagar) से साईंबाबा मंदिर (Saibaba Temple) तक निर्मित करीब 3 किलोमीटर लंबा फ्लाईओवर पर ड्रेनेज सिस्टम खराब होने से बरसात का पानी मार्ग पर जगह-जगह भर रहा है। फ्लाईओवर मार्ग पर हो रहे जलजमाव से वाहन जाने के उपरांत पानी छलक कर आरसीसी मार्ग के नीचे से गुजरने वाले वाहन चालकों, पैदल यात्रियों पर गिर रहा है जिससे लोग भारी परेशानी झेल रहे हैं। शहर के नागरिकों ने मनपा कमिश्नर डॉ. पंकज आशिया से फ्लाईओवर दुरुस्ती के लिए जरूरी कदम उठाए जाने की अपील की है। 

    गौरतलब है कि एमएमआरडीए ठेकेदार जेएमसी द्वारा अशोकनगर से साईंबाबा मंदिर तक 3 किमी. लम्बा फ्लाईओवर करीब 180 करोड़ की लागत से करीब 4 वर्षों में निर्माण किया गया है। जेएमसी इन्फ्राट्रक्चर कंपनी द्वारा फ्लाईओवर पर पानी निकासी के लिए ड्रेनेज सिस्टम को व्यवस्थित और तकनीकी तरीके से नहीं जोड़े जाने से अधिकांश जगहों पर पानी निकासी का होल बन्द हो गया है। आश्चर्यजनक तथ्य है कि फ्लाईओवर निर्माणकर्त्ता जीएमसी कंस्ट्रक्शन कंपनी द्वारा फ्लाईओवर निर्माण संबंधी कई जरूरी कार्यों को भी नजरअंदाज कर दिया गया है जो बेहद आवश्यक थे। 

    1 फीट से ज्यादा पानी भरा

    ठेकेदार कंपनी द्वारा आनन-फानन में मनपा प्रशासन से अनापत्ति प्रमाणपत्र (एनओसी) सहित फ्लाईओवर मनपा को हैंडओवर किये जाने की परमीशन मांगी गई थी, बावजूद मनपा सूत्रों की मानें तो जेएमसी की घटिया व लापरवाही पूर्ण कार्यप्रणाली से नाराज मनपा कमिश्नर डॉ. पंकज आसिया द्वारा ठेकेदार कंपनी को अनापत्ति प्रमाण पत्र नहीं दिया गया है। मनपा प्रशासन से एनओसी नहीं मिलने के बावजूद ठेकेदार जेएमसी कंपनी अपना हाथ झटक कर भिवंडी से चली गई और राजनैतिक नेताओं की उद्घाटन नौटंकी के कारण मनपा प्रशासन को तकनीकीकमियों के बावजूद मजबूर होकर स्व. बालासाहेब ठाकरे का नामकरण कर फ्लाईओवर को आवागमन के लिए खोल देना पड़ा। बिगत दिनों तूफान से आई बारिश के दौरान व 2-3 दिन से रुक-रुक कर हो रही बरसात की वजह से पुल का ड्रेनेज सिस्टम व्यवस्थित तरीके से न होने से फ्लाईओवर के ऊपर कई जगहों पर 1 फीट से ज्यादा पानी भर गया जिससे वाहन चालकों को काफी दिक्कतें झेलनी पड़ी। बरसात का गंदा पानी पुल की रेलिंग से उफनकर नीचे आरसीसी मार्ग से गुजर रहे वाहन चालकों, पैदल यात्रियों पर गिरता है। फ्लाईओवर निर्माण में एमएमआरडीए की घटिया कार्यप्रणाली से शहरवासियों में भारी नाराजगी है।।।

    फ्लाईओवर घटिया निर्माण होने की शिकायतें

    एमएमआरडीए ठेकेदार जेएमसी कंपनी द्वारा फ्लाईओवर निर्माण के दौरान ही घटिया सामग्री प्रयुक्त किए जाने का आरोप नागरिकों एवं तमाम राजनीतिक दलों द्वारा लगाया गया था। समाजवादी पार्टी के विधायक रईस शेख सहित एमआईएम नेता शादाब उस्मानी सहित मनसे नेता राम लहारे, कांग्रेस पूर्व जिलाध्यक्ष शोएब खान गुड्डू द्वारा जेएमसी कंपनी द्वारा फ्लाईओवर निर्माण में घटिया सामग्री उपयोग किए जाने की शिकायत मनपा प्रशासन एवं एमएमआरडीए आयुक्त से फ्लाईओवर निर्माण के दौरान ही कर जांच की मांग की थी। निर्माण के दौरान ही अशोक नगर के पास फ्लाईओवर का एक हिस्सा टूट कर बिखर गया था जिसे लेकर राजनीतिक पार्टियों द्वारा काफी शोर-शराबा किया गया था जिसके उपरांत जेएमसी कंपनी द्वारा ठीक से निर्माण कार्य किए जाने का भरोसा दिया गया था। हैरतअंगेज है कि 6 माह पूर्व निर्मित हुए फ्लाईओवर पर ड्रेनेज लाइन की निकासी बंद होने से पुल पर पानी भरना शुरू हो गया है और नीचे से गुजर रहे लोगों पर भी गंदा पानी गिर कर कपड़े खराब हो रहे हैं। फ्लाईओवर पर जलजमाव होने से हादसे की आशंका से इंकार नहीं किया जा सकता है।

    ड्रेनेज सिस्टम की मरम्मत जल्द हो जाएगी

    उक्त संदर्भ में मनपा बांधकाम विभाग उप अभियंता सुरेश भट्ट ने बताया कि स्व. बालासाहेब ठाकरे फ्लाईओवर ड्रेनेज सिस्टम की खराबी को लेकर एमएमआरडीए अभियंता से पत्र व्यवहार किया गया है। ड्रेनेज सिस्टम की मरम्मत जल्द हो जाएगी।