नवी मुंबई में जून 2021 से जल परिवहन की होगी शुरुआत

नवी मुंबई. सेटेलाईट सिटी नवी मुंबई में महानगर पालिका का खुद का परिवहन उपक्रम है, जिससे लाखों लोग सड़क प्रवास करते हैं. अब नवी मुंबई में जल परिवहन (Water transport) को गति देने की तैयारी है. मुंबई में केंद्रीय जहाजरानी राज्यमंत्री मनसुख मांडविया की जायजा बैठक इसका संकेत देती है कि अगर सारी कार्यवाही ठीक रही तो अगले साल मानसून से पहले नवी मुंबई में जलपरिवहन की शुरूआत हो जाएगी. जल यातायात की शुरूआत से जहां भारत के रहने लायक शहरों में नंबर 2 की पायदान पर मौजूद नवी मुंबई की प्रगति को एक नयी ऊंचाई मिलेगी वहीं सड़क यातायात का भी तनाव और उससे पैदा होने वाला प्रदूषण कम होगा.

8 ठिकानों पर बनेंगी जेट्टियां

बता दें कि वर्ष 2016 में ठाणे महानगर पालिका ने जल परिवहन को प्रोत्साहन देने केन्द्र सरकार को एक प्रस्ताव भेजा था जिसमें वसई-ठाणे-कल्याण के बीच 54 किलोमीटर का जलमार्ग प्रस्तावित किया गया है. इसमें 10 जेट्टियां होंगी. वहीं दूसरे चरण में ठाणे-मुंबई एवं ठाणे-नवी मुंबई जलमार्ग का भी नियोजन किया गया  है जिसमें नवी मुंबई मे्ं कुल 8 ठिकानों पर जेट्टियां बनेंगी. इनमें ऐरोली, कोपरखेरणे, घणसौली, वाशी, नेरुल और बेलापुर दिवाले आदि प्रमुख हैं. इसके साथ ही नवी मुंबई-मांडवा व नवी मुंबई से गेट आफ इंडिया तक जलमार्ग प्रस्तावित है. नवी मुंबई के नेरुल में जेट्टी निर्माण का काम शुरू भी हो चुका है, जहां से मांडवा से नवी मुंबई तक फेरीबोट शुरू करने की तैयारी है.  

प्राइवेट आपरेटर्स करेंगे संचालन

गौरतलब है कि महाराष्ट्र में जल परिवहन केन्द्र की सागरमाला परियोजना (Sagarmala Project) का हिस्सा है जिसे खाड़ी किनारे प्रांतों में संचालित करने की तैयारी है. केन्द्रीय मंत्री के अनुसार महाराष्ट्र में जलमार्ग विकास परियोजना  केन्द्र और राज्य सरकार का साझा उपक्रम है जिसके लिए केन्द्र ने राशि भी आरक्षित कर दी है. पब्लिक प्राइवेट पार्टनरशिप में विकसित होने वाले इस प्रोजेक्ट के लिए ऑपरेटर्स की नियुक्ति होगी जिसे राज्य सरकार नियोजित और संचालित करेगी. सरकार का लक्ष्य जून 2021 से पहले सभी सुविधाओं के साथ फेरीबोट शुरू करने का है. बता दें कि बीते 2015 से ही नवी मुंबई में वाटर ट्रांसपोर्ट शुरू करने की मांग चल रही है.