डिजिटल मीडिया के जरिए छाया रहा योग और सूर्य ग्रहण

नवी मुंबई. कोरोना लॉकडाउन का असर अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर भी साफ दिखा. पीएम मोदी की घर से योग करने की अपील के बाद रविवार को नवी मुंबईकरों ने उद्यानों की बजाय घर में रहकर योग ध्यान किया. तमाम लोगों ने डिजिटल मीडिया के जरिए योग का लाईव प्रसारण किया. तेजी से बढ़ रहे कोविड संक्रमण को देखते हुए स्थानीय प्रशासन ने भी नागरिकों को घरों में योगाभ्यास की अपील की थी, जिसका असर भी देखने को मिला. योग दिवस पर अक्सर गुलजार रहने वाले उद्यानों में खामोशी रही. आर्ट ऑफ लीविंग ने नवी मुंबई पुलिस और स्वास्थ्य कर्मियों के लिए खास तौर पर योग अभ्यास का आयोजन किया. आर्ट ऑफ लीविंग के लाईव प्रसारण से जुड़कर 100 से अधिक लोगों ने योग किया. वहीं वाशी, नेरुल एवं बेलापुर में सहज ध्यान योग संस्था के जरिए डिजिटल ध्यान योग कार्यक्रम चलाया गया.

कोंकण रेलवे में योग दिवस IMP

कोंकण रेलवे के कर्मचारी कालोनी रेल विहार में योग मनाया गया. नेरुल के रेल विहार में कोंकण रेलवे के सीएमडी संजय गुप्ता ने योग किया . इसके साथ ही कर्मचारियों ने भी कोरोना से बचाव की गाईडलाईन्स का पालन करते हुए अपने घरों से ही योगाभ्यास किया.बता दें कि कोरोना लॉकडाउन के चलते इस बार पीएम ने नागरिकों से घर पर रहकर योग करने की अपील की थी. उन्होंने योग को कोराना से बचाव में मददगार बताते हुए सभी देशवासियों को इसमें शामिल होने का आव्हान किया था.  

बारिश और बादल से असंख्य लोग नहीं देख पाए वलयाकरण सूर्य ग्रहण

योग दिवस के बीच रविवार को सदी का सबसे बड़ा वलयाकार सूर्य ग्रहण देखने लायक रहा. हालांकि अधिकांश लोग ऐसे भी रहे जो तमाम कोशिशों के बावजूद बादल और बारिश के कारण इस खगोलीय नजारे को देखने से चूक गए. जबकि अधिकांश लोग कोरोना के भय से घर से नहीं निकले और उन्होंने टेलीविजन पर ही सुर्यग्रहण के अद्भुत नजारे का आनंद लिया. बता दें कि कई स्कूलों ने अपने छात्रों के लिए विशेष सूचनाएं भेजकर विज्ञान मंत्रालय के संगठन एरिज द्वारा किए गए लाईव प्रसारण को देखने का सुझाव दिया था.