पर्यटकों के लिए खुशखबरी, जल्द शुरू हो सकती हैं चारधाम यात्रा के लिए रेल, जानें कितना होगा किराया

    नई दिल्ली : कोरोना वायरस के खतरे को देखते हुए चारधाम यात्रा को रद्द कर दिया गया था। हालांकि, अब पर्यटकों के लिए एक खास खुशखबरी आ रही है। खबरों के अनुसार भारतीय ट्रेन पर्यटकों के सुविधा के लिए विशेष ट्रेन सेवा शुरू की जा रही है। इस यात्रा के दौरान रेल बद्रीनाथ, जगन्नाथ पूरी, रामेश्वरम और द्वारकाधीश जाएगी। इससे करोड़ों पर्यटकों को लाभ मिलेगा। इसमें श्रद्धालु चार धाम की यात्रा आनंदपूर्वक कर सकेंगे। यह सेवा श्री रामायण यात्रा के सफल होने के बाद की जा रही है। इस स्पेशल रेल यात्रा का नाम “देखो अपना देश” रखा गया है।  तो चलिए जानते है  इसके बारे में…. 

    पर्यटन को बढ़ावा देना सरकार का उद्देश्य 

     जैसा की हम जानते है देशी के आमदनी में पर्यटन क्षेत्र का बहोत बड़ा हात होता है। इसी बात को मद्देनजर रखते हुए अब सरकार पर्यटन के के सभी द्वार धीरे-धीरे खोलने का प्रयास कर रही है। ताकि टूरिस्ट के आने से पर्यटन क्षेत्र में मुनाफा हों। लोगों को रोजगार मिलेगा। सरकार पर्यटकों को रिझाने के लिए चौतरफा विकास कर रही है। इस सेवा का मुख्य उद्देश्य पर्यटन को बढ़ावा देना है। इससे पर्यटकों की संख्या में वृद्धि होगी। चार धाम रेल यात्रा 16 दिनों को रहने वाला है। इसकी शुरुआत 16 सितंबर से होने वाली है। पर्यटक नई दिल्ली के सफदरजंग रेलवे स्टेशन से रेल पकड़ सकते हैं। इस यात्रा के दौरान रेल बद्रीनाथ, गोल्डन बीच पुरी, कोणार्क मंदिर, चंद्रभागा बीच, रामेश्वरम और द्वारकाधीश जाएगी।

    खानपान और मेडिकल की सुविधा उपलब्ध 

    साथ ही श्रद्धालु शिवराजपुर बीच, धनुषकोडी, नागेश्वर ज्योतिर्लिंग की भी सैर कर सकते हैं। पर्यटकों की सुविधा के लिए क्रूज में खानपान की भी सुविधा उपलब्ध होगी। एक ट्रिप में केवल 120 पर्यटक ही चार धाम यात्रा कर सकेंगे। हालांकि, इस रेल में 156 पर्यटकों की यात्रा की क्षमता है। एक पर्यटक का किराया 78585 हजार भारतीय रुपये निर्धारित किया गया है। इस किराए में खानपान और मेडिकल सुविधाएं दी जाएगी।

    कोरोना को लेकर बरती जाएगी सावधानी 

    इस यात्रा के दौरान भारतीय रेल की तरफ से पर्यटकों की सुरक्षा के लिए दस्ताना, मास्क और सैनिटाइजर भी दिया जाएगा। इससे पहले पिछले साल दिवाली के मौके पर अयोध्या के सरयू नदी में रामायण क्रूज सेवा’ की शुरुआत की गई थी।इस यात्रा के दौरान गोस्वामी तुलसीदास के रामचरितमानस पर आधारित मर्यादा पुरुषोत्तम की जीवन वृतांत फिल्म दिखाई जाती है। इसमें भगवान राम के जन्म से लेकर राज्याभिषेक की कथा दिखाई जाती है। वहीं, यात्रा के समापन के बाद आरती आयोजित की जाती है, जिसमें सभी पर्यटक शामिल हो सकते हैं।