घूमना चाहते हैं महाराष्ट्र तो ज़रूर जाएं दिवेआगर

देश में बहुत से ऐसी जगह हैं जो अपने सुन्दर दृश्य के लिए दुनियाभर में प्रसिद्ध है। लेकिन उन जगह पर बेहद भीड़ भी होती है। ऐसे में अगर आप शांति वाली जगह जाना चाहते हैं तो आप महाराष्ट्र में दिवेआगर जा सकते हैं। दिवेआगर महाराष्ट्र के समुद्री तट कोंकण पर बसा हुआ है। यह बेहद ही खूबसूरत पर्यटक स्थल है। तो आइए जानते हैं यहाँ के जगहों के बारे में…  

बैंकोट किला-
अगर घूमने तथा नई – नई जगह को एक्सप्लोर करने के साथ-साथ आपको इतिहास में भी खास रूचि है, तो आपको यहां घूमने मे बहुत मज़ा आने वाला है। बैंकोट किला दिवेआगर जगह मात्र लगभग 4 से 5 किमी की दूरी पर ही स्थित है। यहां के मूल निवासी इस किले को हिम्मत गढ़ नाम से भी जानते है। इस किले के बारे मे बहुत सी बाते प्रचलित है जिसमे से एक यह भी है कि पहले इस किले को आदिल शाह से पुर्तगालियों ने कब्ज़ा कर लिया था जिसके बाद पुर्तगालियों से मराठों ने कब्ज़ा कर लिया था। यहां के खूबसूरत नज़ारे पेड़ और पौधे तथा दूर तक फैला समुद्र यहां कि सुन्दरता पर चार – चांद लगा देता है।

दिवेआगर बीच-
महारष्ट्र के सबसे प्रमुख समुद्र तटों में से एक दिवेआगर बीच लगभग 5 किलोमीटर की लम्बाई में फैला हुआ एक बहुत सुंदर बीच है जहां आप घूमने के साथ – साथ सरफिंग और स्कूबा डाइविंग आनंद भी ले सकते है। दूरी के मामले में दिवेआगर बीच मुंबई से लगभग 170 किमी की दूरी पर है। यहां लोग दूर – दूर से केवल सूर्ययास्त के अद्भुद नज़ारे का अनुभव करने आया करते है, तो यदि आप चाहते है कि शहर कि भीड़ और हर प्रकार के अशांति वाले माहौल से दूर एक सुकून वाली जगह पर समय बिताना तो दिवेआगर बीच आपके लिए ही है।

रूपनारायण मंदिर-
समुद्र कि शांति पशु – पक्षी और प्राकृतिक सौंदर्य को देखने के बाद ट्रिप मे घार्मिक जगह को भी जोड़ लिया जाए तो यात्रा सफल माना जाती है, तो आइए जानते है समुद्र तट के किनारे स्थित यह मंदिर स्थित रूपनारायण मंदिर जो कि भगवान विष्णु को समर्पित है। हम आपको बता दें यह मंदिर अपने चमत्कारी कारनामों के लिए बहुत पवित्र और मशहूर है जहां विष्णु जी की दशावतार रूप में मूर्ति मौजूद है।

फांसद पक्षी अभयारण्य-
जैसा कि नाम से ही स्पष्ट है फांसद पक्षी अभयारण्य जगह पक्षियों तथा पक्षी प्रेमियों के लिए जन्नत से कम नहीं। यहां आपको पक्षियों कि हजारों प्रजाति और तरह – तरह के रंग – बिरंगे पक्षीयों को देखने का मौका मिलेगा। अभयारण्य में अनगिनत मौजूदा पक्षियों और हरियाली पर्यटको का मन मोह लेते है। तो यदि आप अपनी ट्रिप मे पक्षियों कि मधुर आवाज़ और उनके बीच रह कर शांति को महसूस करना चाहते है तो फांसद पक्षी अभयारण्य जरूर आना चाहिए।