DEVPRAYAG

    -वैष्णवी वंजारी 

    नई दिल्ली. कोरोना (Corona Virus) महामारी के चलते सभी धार्मिक स्थल (Religion Places) बंद हुए करीब एक साल के ऊपर का वक्त हो चुका है। कम हो रहे कोरोना मामलों को देखते हुए जल्द ही धार्मिक स्थल खुलने की उम्मीद लगाए हैं। भगवान तो कण कण में बसे हुए है अगर आप इस बात को मानते है तो आज आपको इसके प्रमाण भी दे रहे हैं,कुछ इस तरह के अद्भुत धार्मिक स्थलों के बारे में आपको बता रहे है,जिसके बारे में शायद आपको पता भी न हों ,तो चलिए जानते हैं कि, वो कोनसे धार्मिक स्थल है जिनकी यात्रा आपको जिंदगी में एक बार जरूर करना चाहिए…..

    दंडकारण्य (छतीसगढ़) :

    बहुत बड़े भू -भाग में  फैले इस वन के बारे में कथा प्रचलित है की,रामायण (Ramayan) काल में  यहीं से रावण ने माँ सीता का हरण किया था।पर्यटकों को इस जगह को देखने आने का मूल कारण यही कथा हैं।ये वन केवल छत्तीसगढ़ हीं बल्कि आंध्र प्रदेश,उडिसा,तेलंगाना राज्य मेभी फैला हुआ हैं। 

    देवप्रयाग (उत्तराखंड) :

    हिंदुओ की आस्था का केंद्र देवप्रयाग (Devprayag) भी सैर करने के लिए एक बढ़िया जगह। हैं खा जाता है की यंहा पर अलकनंदा नदी भागीरथी से मिलकर गंगा का रूप लूटी हैं और यही से आगे बढ़ती है। ऋषिकेश से 70 किमी दूर बसे इस  शहर की सैर मौका मिले तो एक बार जरूर जाएं 

    हम्पी (कर्नाटक) :

    ऐसे ही एक और शहर के बारे में हम बताने जा रहे है। जिसकी  पर आपको इस शहर जुड़ी  पौराणिक मांन्यताओ के बारे में सुनाने को मिलेगा। हम्पी,ये शहर कर्नाटक राज्य मे बसा है और हिंदुओं की गहरी आस्था का केंद्र हैं। कहते हैं की रामायण में जिस वानर राज सुग्रीव का जिक्र किया गया हैं। हम्पी वही जगह है। इस जगह पर राम और सुग्रीव के साथ मिलकर रावण के विरुद्ध लड़ाई की योजना बनाई गई थी। इस शहर में इतने प्राचीन मंदिर है की इसे यूनेस्को ने वर्ल्ड हेरिटेज लिस्ट में शामिल किया है। जिंदगी में मौका मिले तो इन जगहों पर जरूर जाए क्यूंकि यह जगह देखने में जितने सुंदर हैं,उतनी ही सुंदर शहरों से जुडी दिचस्प कहानियां हैं।