अब देश में ही लें सकते हैं ‘ग्लास स्काई वॉक’ का मज़ा, जानें पूरे डिटेल्स

पर्यटकों के लिए कोरोना महामारी किसी अभिशाप से काम नहीं थी। इस साल लोगों ने घूमना फिरना बंद कर बस घर में ही कैद हो गए थे। लेकिन अब घूमने के शौकीन और अलग अलग जगह पर जाकर आनंद उठाने वाले लोगों के लिए खुशखबरी आई है। अब सैलानी देश में ही ग्लास स्काई वॉक का लुत्फ़ उठा सकते हैं। इससे पहले ग्लास स्काई वॉक के लिए लोगों को चीन जाना पड़ता था, लेकिन अब पर्यटक देश में ही स्काई ग्लास वॉक कर सकते हैं। तो आइए आपको बताते हैं इसके बारे में सब कुछ…

कहाँ है ग्लास स्काई वॉक-
एडवेंचर को पसंद करने वाले लोगों के लिए बेहद ख़ुशी की बात है कि अब आप देश में ही ग्लास स्काई वॉक का आनंद ले सकते हैं। अगर आप एडवेंचर का मज़ा लेना चाहते हैं, तो आपको सिक्किम जाना पड़ेगा। यह पर्यटन स्थल सिक्किम राज्य के पेलिंग में स्थित है। पेलिंग स्थित ग्लास स्काई वॉक चेनरेजिग मूर्ति के सामने बना हुआ है। यह प्रतिमा 137 फीट ऊंची है। जबकि इस प्रतिमा का अनावरण 2018 में किया गया था। सिक्किम का यह ग्लास स्काई वॉक देश का पहला स्काई वॉक पर्यटन स्थल है। इस स्थान से चेनरेजिग मूर्ति, तीस्ता और रंगीत नदियों का बेहद खूबसूरत नज़ारा देखने में मिलता है। 

ग्लास स्काई वॉक का विवरण-
ग्लास स्काई वॉक के खुलने का समय सुबह 8 बजे से है और यह शाम 5 बजे बंद हो जाता है। पर्यटक इस समय के दौरान ग्लास स्काई वॉक कर सकते हैं। इसकी प्रति व्यक्ति टिकट मात्र 50 रुपये है। ग्लास स्काई वॉक पेलिंग से महज ढाई किलोमीटर ही दूर है। वहीं अगर किसी व्यक्ति को चक्कर आने की समस्या है या उन्हें ऊंचाई से डर लगता है, तो वैसे लोगों को ग्लास स्काई वॉक करने की अनुमति नहीं दी जाएगी। साथ ही अगर किसी व्यक्ति की हृदय गति तेज चलती है, तो उस व्यक्ति को भी जाने की अनुमति होगी। ग्लास स्काई वॉक के दोनों ओर रेलिंग लगी हुई है। हालांकि, कोरोना काल में आपको गाइडलाइंस का पालन करना बेहद ज़रूरी होगा।