priyanka
File Photo

    राजेश मिश्र

    लखनऊ. कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव (Congress National General Secretary) और उत्तर प्रदेश कांग्रेस प्रभारी (Uttar Pradesh Congress In-Charge) प्रियंका गांधी (Priyanka Gandhi) का रविवार को उनकी तीन दिवसीय यात्रा का अंतिम दिन रहा। इस बीच प्रियंका ने कार्यकर्ताओं (Workers) की हौसला बढ़ाया तो वर्षों बाद ब्लाक और न्याय पंचायत स्तर पर तैयार किये गये संगठन को और सक्रिय व मजबूत करने पर जोर दिया।  उनका कहना था कि आगामी विधानसभा चुनाव के लिए कॉंग्रेस के सभी विकल्प खुले रखे हैं। उनका कहना था कि आगामी सात माह का सघर्ष यूपी कांग्रेस के शानदार भविष्य के लिए महत्वपूर्ण और निर्णायक होगा और इसके लिए अब वह प्रदेश में और ज्यादा समय देंगी। 

    अपने तीन दिवसीय दौरे के दौरान कांग्रेस पदाधिकारियों, पूर्व सांसद, विधायकों, फ्रंटल संगठन के पदाधिकारियों से मुलाकात में प्रियंका ने यह बात स्पष्ट कर दिया कि उत्तर प्रदेश में आगामी चुनाव को लेकर सभी महत्वपूर्ण फैसलों में सांगठनिक महत्व हर हाल मे अनिवार्य होगा।  रविवार को कॉंग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी राजधानी लखनऊ में वरिष्ठ पत्रकारों से नाश्ते पर मुलाक़ात के दौरान अनौपचारिक बातचीत में कहा कि हम उत्तर प्रदेश के आगामी विधानसभा चुनावों को लेकर हम ‘Close-minded’ नहीं हैं। साथ उन्होंने जोड़ा कि “अभी कुछ कहना जल्दबाजी होगी. मगर हम ऐसा कुछ भी नहीं करेंगे जिससे हमारे संगठन और पार्टी हित को चोट पहुँचे।” प्रियंका गांधी ने यह भी कहा कि आगे की परिस्थितियों के हिसाब से हम अपनी रणनीति तय करेंगे। 

    प्रियंका गांधी ने कहा कि पार्टी अपने दमखम और मजबूत संगठन के साथ बेतहाशा मंहगाई, प्रदेश में बेकाबू हो रही बेरोजगारी, खेत मजदूरों, मझोले किसानों की दुर्दशा और प्रदेश में बढ़ रही महिला हिंसा, अपराध और सरकारी भ्रष्टाचार को प्रमुखता से मुद्दा बनाकर व्यापक रणनीति के साथ प्रदेश के समस्त ब्लाकों और न्याय पंचायतों पर लड़ाई लड़ने जा रही है, जिसका सारा खाका तैयार है। प्रियंका गांधी ने कहा कि असली लड़ाई बूथ पर है, इसलिए प्रदेश की आगामी विधान सभा चुनाव लड़ने के इच्छुक नेताओं को सबसे पहले अपने क्षेत्र में बूथ स्तर पर मजबूत संगठन तैयार करना होगा।