Suspend

चित्रकूट (उप्र). उत्तर प्रदेश के चित्रकूट जिले के खोह स्थित कोविड-19 अस्पताल से फरार हुए संक्रमित दो कैदियों के मामले में पुलिस अधीक्षक ने सुरक्षा में लापरवाही बरतने के आरोप में शुक्रवार को तीन सिपाहियों को निलंबित कर दिया है।

चित्रकूट के पुलिस अधीक्षक (एसपी) अंकित मित्तल ने शनिवार को बताया कि “खोह की कोविड-19 अस्पताल से फरार संक्रमित दो कैदियो के मामले सुरक्षा में तैनात सिपाही आशीष कुमार, दीपक कुमार और विजयपाल को प्रथमदृष्टया लापरवाही बरतने का दोषी पाए जाने पर शुक्रवार को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया गया है और होमगार्ड जयनारायण के खिलाफ कार्यवाही के लिए उसके कमांडेंट को पत्र लिखा है।”

उन्होंने बताया कि “कोरोना वायरस से संक्रमित पाए जाने पर सामूहिक दुष्कर्म के आरोपी दोनों विचाराधीन कैदियों रज्जू यादव और बृजलाल को इलाज के लिए सात सितंबर को खोह की कोविड-19 अस्पताल में भर्ती करवाया गया था, जहां से बृहस्पतिवार की तड़के शौचालय की खिड़की तोड़कर दोनों फरार हो गए थे।”

मित्तल ने बताया कि “एक नाबालिग लड़की के साथ सामूहिक दुष्कर्म करने के आरोप में दोनों कैदियों को दो सितंबर को गिरफ्तार किया गया था।” एसपी ने बताया कि “एक कैदी बृजलाल को बृहस्पतिवार की देर रात दोबारा गिरफ्तार किया जा चुका है और दूसरे कैदी रज्जू की तलाश में पुलिस की कई टीमें छापामारी कर रही हैं।”