Details of 20 lakh engineering students of UP now on one click

-राजेश मिश्र

लखनऊ: उत्तर प्रदेश भर के इंजीनियरिंग छात्रों का ब्यौरा अब एक क्लिक पर उपलब्ध होगा. प्रदेश सरकार ने खास इंजीनियरिंग व अन्य तकनीकी कोर्सों की पढ़ाई कर रहे छात्रों के लिए एक पोर्टल की शुरुआत की है. इस पोर्टल का उपयोग छात्र जीवन भर कर सकेंगे. पोर्टल पर सरकारी व निजी संस्थानों में पढ़ रहे इंजीनियरिंग व अन्य तकनीकी कोर्सों के 20 लाख छात्रों का सारा ब्यौरा मौजूद रहेगा. प्रदेश सरकार के पोर्टल यू राइज (You Rise) पर तकनीकी शिक्षा प्राप्त कर रहे सभी छात्रों का ब्यौरा व उनके रोजगार का विवरण उपलब्ध होगा.

गुरुवार को इस पोर्टल की शुरुआत करते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि यू राइज’ पोर्टल यानी ‘यूनिफाइड री-इमेजिंड इनोवेशन फ़ॉर स्टूडेंट एमपॉवरमेन्ट’ (Unified Re-Imagined Innovation for Student Empowerment) पोर्टल में विद्यार्थी जीवन के सम्पूर्ण चक्र जैसे संस्थान में प्रवेश, शुल्क, शिक्षण, प्रशिक्षण, प्रयोग, परीक्षा इत्यादि के साथ-साथ रोजगार की प्राप्ति तक का पूरा चक्र दर्ज होगा. कोई भी सेवायोजक छात्र के बारे में सारी जानकारी प्राप्त कर सकता है. यह छात्रों के लिए बहुत मददगार साबित होगा.

यू राइज (You Rise) पोर्टल पर पंजीकरण के बाद छात्र आजीवन यहाँ उपलब्ध कन्टेन्ट व सेवाओं का लाभ उठा सकते हैं. यह पोर्टल उनके लिए उद्योग, प्रशिक्षकों और फैकल्टी का एक वृहद नेटवर्क तैयार कर रहा है, जिसका लाभ उन्हें जीवनपर्यन्त मिलता रहेगा. पोर्टल पर छात्र के ट्रैक रिकार्ड का डिजिटल संग्रह करने की सतत प्रक्रिया चलती रहेगी.

मुख्यमंत्री ने कहा कि ‘यू राइज’ (You Rise) पोर्टल शिक्षाविदों, सेवायोजकों, शोधार्थियों आदि के सहयोग से लाखों छात्र-छात्राओं के भविष्य निर्माण में अग्रणी भूमिका निभाने में सफल होगा. विद्यार्थी जीवन के सम्पूर्ण चक्र के विभिन्न स्तरों को यह पोर्टल, उपलब्ध सेवाओं और सूचनाओं के माध्यम से उन्हें सशक्त करेगा. इन सेवाओं में ऑनलाइन शुल्क, ऑनलाइन परीक्षा, आवश्यकता के अनुसार ऑनलाइन कक्षाएँ तथा वेबिनार, डिजिटल प्रश्नपत्र, डिजिटल मूल्यांकन, डिजिटल कन्टेन्ट, ई-लाईब्रेरी, विषय वस्तु पर रिकार्डेड वीडियो कन्टेन्ट, उद्योग, प्रशिक्षण, इंटर्नशिप, रोजगार इत्यादि के लिए विशाल नेटवर्क से युक्त यह पोर्टल विद्यार्थी को हर उस रूप से सशक्त कर सकेगा. इस पोर्टल के माध्यम से व्यावसायिक एवं तकनीकी शिक्षा प्राप्त कर रहे लगभग 20 लाख विद्यार्थियों को लाभ पहुंचेगा.

पोर्टल लांचिंग के मौके पर मुख्यमंत्री ने दीनदयाल उपाध्याय गुणवत्ता सुधार कार्यक्रम के दूसरे चरण के 100 करोड़ रुपये भी जारी किए. कोविड-19 महामारी के दूरगामी प्रभावों को ध्यान में रखते हुए दीनदयाल उपाध्याय गुणवत्ता सुधार कार्यक्रम तहत दूसरे चरण के लिए जारी यह राशि प्रदेश के विभिन्न तकनीकी संस्थानों में डिजिटल और फिजिकल इन्फ्रा के विकास पर खर्च होगी. इस धनराशि से छात्रावासों का निर्माण, क्लास रूम, लैब, नवनिर्मित भवन के फर्नीचर, पुस्तकालय का विस्तार , कोविड के दृष्टिगत अवस्थापना सुविधाओं का विनिर्माण एवं ऑनलाइन क्लासेज, स्मार्ट क्लास रूम,वर्चुअल लैब आदि खरीदे जाएंगे.