UP थाने में महिला के साथ बदसलूकी, मॉडल की मां ने घर आकर फेसबुक लाइव पर किया सुसाइड

    उत्तर प्रदेश. मॉडल और मिस इंडिया ताज प्रिंसेस का खिताब जीतकर सुर्खिया बटोरने वाली रिया रैकवार (Riya Raikwar) की मां ने अपने ही घर में फांसी लगाकर सुसाइड कर ली। यूपी के बांदा में रिया की मां ने सुसाइड नोट में पुलिस पर गंभीर आरोप लगाए हैं। आरोप है कि, अपने बेटे के अपहरण की रिपोर्ट लिखाने थाने गयी मां को पुलिस ने सुबह से शाम तक थाने में बिठाकर मानसिक दबाव बनाया फिर एफआईआर दर्जकरने के बजाय उल्टा महिला के ही भाई को लॉकअप के अंदर डाल दिया गया। पुलिस का आरोप है कि, पुलिस (UP Police)ने ऐसा उस पक्ष के कहने पर किया जिस पर अपहरण का आरोप लगाया गया था।  

    रिया की मां ने थाने में हुई बेइज्जती से शर्मिंदा थी उन्होंने घर लौटकर फेसबुक लाइव पर घर की रेलिंग में लटककर आत्महत्या कर की। बता दे कि, महिला की दो बेटियों में से एक रिया रैकवार (Riya Raikwar) मॉडल है जोकि देश के कई फैशन कंटेंस्ट्स में अपना खास नाम बना चुकी हैं।  

    woman commits suicide

    मानसिक दबाव बनाने का है आरोप

    रिपोर्ट के अनुसार, सुधा चंद्रवंशी रैकवार (Sudha Chandravanshi Raikwar) जो की शहर के चिल्ला रोड बाईपास निवासी थी। कुछ लोगों ने शुक्रवार को बेटे दीपक का अपहरण कर लिया था।  महिला अपने भाई के साथ अपहरण का मामला दर्ज करने बांदा शहर कोतवाली पुलिस गई थी। लेकिन पुलिस ने उन्हें शनिवार सुबह से लेकर शाम तक कोतवाली में ही बैठा कर रखा। पुलिस ने रिपोर्ट लिखने या बेटे को खोजने की बजाय उल्टा पीड़िता पर ही मानसिक दबाव बनाया। साथ ही आरोप है कि कोतवाली पुलिस ने आरोपी पक्ष के कहने पर महिला के भाई को भी पुलिस ने लॉकअप में बंद कर दिया।  

    महिला ने फेसबुक लाइव में सुसाइड कर लिया 

    महिला थाने में हुए बर्ताव और अपमान से आहात होकर घर लौटी और शाम करीब 5 बजे फेसबुक लाइव होकर सुसाइड कर लिया। दोनों बेटियों का रो- रोकर बुरा हाल है। परिवार ने पुलिस पर अपराधियों के साथ मिलने जैसे गंभीर आरोप लगाए हैं। परिजनों ने अस्पताल में पुलिस के साथ कई बार नोंकझोंक भी की।

    woman commits suicide  

    पुलिस का क्या कहना है?

    बांदा के सीओ सिटी राकेश कुमार सिंह ने बताया कि मृत महिला का नाम सुधा रैकवार हैं, इनका पैसों के लेनदेन का कुछ विवाद था। जिसपर इन्हें कोतवाली ले आया गया था। बाद में इनके द्वारा फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली गयी। इनका बेटा दीपक (23) भी शुक्रवार से लापता है, जिसकी एफआईआर दर्ज कर आवश्यक कार्रवाई की जाएगी।

    बेटे के अपहरण की जिस एफआईआर को लिखाने के लिए मृतका शुक्रवार से शनिवार शाम तक थाने में डटी रही, उसे पुलिस ने अभी संज्ञान में आना कहकर न सिर्फ छुपा दिया बल्कि सीधा पल्ला भी झाड़ लिया। हालांकि, महिला की बांदा शहर कोतवाली में हुई पुलिसिया बेइज्जती के सवाल पर सीओ सिटी ने दोषियों के खिलाफ जांच कर कार्रवाई करने की बात कही है। लेकिन उसकी कार्यशैली पर कई बड़े सवाल खड़े कर रही है।