gaziabad

    नयी दिल्ली.  एक बड़ी खबर के अनुसार बुलंदशहर (Bulanshahar) के एक बुजुर्ग को बंधक बनाकर उनके साथ मारपीट करने व दाढ़ी काटने के एक अहम मामले में पुलिस ने अब ट्विटर पर भी केस दर्ज कर लिया है। यह आरोप है कि बिना सत्यता जाने घटना का वीडियो ट्विटर पर चला और फिर यह यह ट्रेंड कर गया। अब पुलिस ने इस महत्वपूर्ण मामले में धार्मिक भावनाएं आहत करने की कई धारा लगाई है। वहीं अब ट्विटर के साथ ही उन लोगों पर भी मामले दर्ज हुए हैं, जिन्होंने इस घटना का बताया जा रहा वीडियो ट्वीट किया। इन आरोपियों में पत्रकार राणा अय्यूब, स्थानीय सपा नेता उम्मेद पहलवान इदरीसी व जुबैर शामिल हैं। साथ ही पुलिस अब अन्य आरोपियों को भी ट्रेस कर रही है। इस मामले में फिलहाल दो लोगों की गिरफ्तारी हुई है। 

    दरअसल बीते सोमवार को जब इस घटना का वीडियो वायरल हुआ तो उसके अगले दीन मंगलवार को पीड़ित का एक और वीडियो ट्विटर पर ट्रेंड कर गया। इसमें यह आरोप लगाया गया है कि आरोपियों ने पीड़ित से धर्म विशेष के नारे भी लगवाए। यह देख पुलिस तुरंत हरकत में आ गई और इसे माहौल बिगाड़़ने की साजिश मानते हुए पुलिस ने वीडियो वायरल करने वालों पर अपना शिकंजा बनाना  शुरू कर दिया है। इस मुद्दे पर SP ग्रामीण डॉ।  ईरज राजा का कहना है कि, “इस आपत्तिजनक वीडियो ट्रेंड होने पर पत्रकार राणा अय्यूब, सपा नेता उम्मेद पहलवान इदरीसी, जुबैर समेत दर्जनभर लोगों के खिलाफ हमने केस दर्ज किया है। बिना सत्यता जांचे वीडियो ट्रेंड करने पर अब पुलिस ने ट्विटर को भी केस में आरोपी बनाया है।हमारी जांच जारी है। “

    इन लोगों पर दर्ज हुई FIR:

    इसके बाद पुलिस ने मोहम्मद जुबैर, राना अय्यूब, सलमान निजामी, मशकूर उस्मानी, डॉ।  शमा मोहम्मद, सबा नकवी, ट्विटर आईएनसी और ट्विटर कम्यूनिकेशंस इंडिया प्राइवेट लिमिटेड सहित एक वेबसाइट के खिलाफ सांप्रदायिक तनाव पैदा करने, धार्मिक टिप्पणी करने, पवित्र मानी गई वस्तु को नुकसान पहुंचाने तथा संप्रदायों के बीच घृणा व शत्रुता पैदा करने की जैसे कई धाराएं लगाई गई हैं।

    इन पर IPC की धारा 153,153A, 295A, 505,120B और 34 में केस दर्ज हुआ है।  बीते सोमवार को जब घटना का विडियो वायरल हुआ तो मंगलवार को पीड़ित का एक और वीडियो ट्विटर पर ट्रेंड होने लगा। इसमें आरोप लगाया गया है कि कुछ आरोपियों ने पीड़ित से धर्म विशेष के नारे भी लगवाए हैं। तब मामला बढ़ता देख इसे माहौल बिगाड़ने की साजिश मानते हुए पुलिस ने वीडियो वायरल करने वालों पर अपना शिकंजा बनाना शुरू कर दिया । 

    धार्मिक भावनाएं भड़काने का है आरोप :

    इस घटना में लिप्त तमाम आरोपियों को चिन्हित कर अब FIR दर्ज की जा रही है। अब इस प्रकार से माहौल बिगाड़ने की कोशिश करने वालों पर सख्त कार्रवाई होगी। वहीं पुलिस ने बुजुर्ग को बंधक बना तीन घंटे तक उन्हें बेपनाह यातनाएं देने व दाढ़ी काटने के एक अहम मामले में मुख्य आरोपी परवेज को भी गिरफ्तार कर लिया है। बता दें कि बीते सोमवार को दो अन्य अभियुक्त कल्लू व आदिल की भी गिरफ्तारी पुलिस ने की थी ।

    क्या थी घटना :

    अब जब सोशल मीडिया पर बुजुर्ग के साथ मारपीट व अभद्रता के वायरल वीडियो के संबंध में जांच के बाद यह पता चला है कि पीड़ित अब्दुल समद ताबीज बनाने का काम करता है। इस पर आरोपियों का कहना है कि उसके दिए ताबीज से उनके परिवार पर ही उल्टा असर हुआ। इस वजह से उन्होंने ये घृणित कृत्य किया है।

    यह भी बताया जा रहा है कि अब्दुल समद और प्रवेश, आदिल ,कल्लू आदि लड़के एक दूसरे से पूर्व से ही परिचित थे क्योंकि अब्दुल समद द्वारा ही गांव में कई लोगों को इस प्रकार के ताबीज दिए गए थे। वहीं इस बड़े मामले में मुख्य अभियुक्त परवेश गुज्जर की गिरफ्तारी पहले ही की जा चुकी है। वहीं बीते 14 जून को अन्य दो अभियुक्तों कल्लू व आदिल की गिरफ्तारी की गई है ।

    यह भी विदित हो कि  बीते 5 जून को हुई घटना में पुलिस ने 2 दिन बाद सिर्फ मारपीट का केस दर्ज किया था, लेकिन फिर इस घटना के नौ दिन बाद, इसका वीडियो वायरल होने पर पुलिस भी तुरंत हरकत में आ गई है। अब इस मुद्दे पर पुलिस अधिकारियों का कहना है कि दो और आरोपियों की निशानदेही हो गयी है।  अब मामले की सघनता को देखते हुए मुकदमे में और भी धाराएं बढ़ाई जाएंगी।