Uttar Pradesh State Industrial Development Authority

    राजेश मिश्र

    लखनऊ. कोरोना संकट (Corona Crisis) के दौर में भी उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) में उद्योग लगाने के इच्छुक 1000 से ज्यादा उद्यमियों को उत्तर प्रदेश राज्य औद्योगिक विकास प्राधिकरण (Uttar Pradesh State Industrial Development Authority) (यूपीसीडा) (UPSIDA) को जमीन(Plot) आवंटित (Allotted) की है। बीते चार साल में प्रदेश के 51 जिलों में मौजूद औद्योगिक क्षेत्रों में यूपीसीडा ने कारखाने लगाने के लिए 3500 उद्यमियों (Entrepreneurs) को भूखंडों का आवंटन किया है। इसके साथ ही यूपीसीडा प्रदेश में उन्नाव जिले में मेगा लेदर पार्क तो कन्नौज में परफ्यूम पार्क व म्यूजियम बना रहा है। 

    औद्योगिक विकास विभाग के अधिकारियों का कहना है कि इन उद्योगपतियों के राज्य में ईकाई लगाने से 11500 करोड़ रुपए से अधिक का निवेश हो रहा है साथ ही करीब एक लाख लोगों को इन उद्योगों में रोजगार पाएंगे। जमीन लेने वाले तमाम उद्योगपतियों ने अपनी फैक्ट्री स्थापित कर उनमें उत्पादन भी शुरू कर दिया है। 

    कोरोना काल के दौरान निवेश करने में इन कंपनियों ने रूचि दिखाई है

    बीते एक साल में कोरोना महामारी के दौरान भी प्रदेश सरकार की नीतियों से  प्रभावित होकर एक हजार से अधिक उद्योपतियों ने राज्य में अपनी फैक्ट्री लगाने के लिए यूपीसीडा से  जमीन ली है। इन उद्योगपतियों द्वारा लगाई जाने वाली ईकाईयों में करीब 5100 करोड़ रुपए का निवेश होगा। कोरोना काल के दौरान निवेश करने में जिन देशी और  विदेशी कंपनियों ने रूचि दिखाई है, उनमें ब्रिटिश कंपनी एवी मोरी प्रमुख है, इस कंपनी ने चित्रकूट और पीलीभीत में अपनी फैक्ट्री लगाने के लिए जमीन ली है। इसके अलावा हिंदुस्तान यूनिलीवर हमीरपुर के सुमेरपुर में, त्रिवेणी अलमीरा ने बाराबंकी के कुर्सी रोड पर, फारेवर डिस्टलरी ने गोरखपुर में हिंदुस्तान पेट्रोलियम कारपोरेशन ने बदायूं में और आईनॉक्स एयर प्रोडक्ट्स लिमिटेड ने रायबरेली में अपनी फैक्ट्री लगाने के लिए जमीन ली है। 

    अधिकारियों के मुताबिक मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की पहल पर अब उन्नाव में 42 एकड़ क्षेत्रफल में मेगा लेदर पार्क बनाने की योजना तैयार की गई है।  करीब 550 करोड़ रुपए की लागत वाले इस पार्क की स्थापना से लेदर के उत्पाद बनाने वाली बड़ी – बड़ी कंपनियां यहां निवेश करने में रूचि दिखाएंगी और लेदर कारोबार की स्थिति में भी सुधार आएगा। 

    परफ्यूम पार्क का निर्माण होने से लोग पुश्तैनी काम छोड़ने को मजबूर नहीं होंगे

    इसी संकट में घिरे इत्र के कारोबार को खड़ा करने के लिए कन्नौज में एक परफ्यूम पार्क और परफ्यूम म्यूजियम बनाए जाने की योजना बनी है। अधिकारियों का कहना है कि परफ्यूम पार्क का निर्माण होने से लोग पुश्तैनी काम छोड़ने को मजबूर नहीं होंगे और बड़ी कंपनियां भी कन्नौज में अपनी फैक्ट्री लगाने के लिए आगे आएंगी।  जबकि परफ्यूम म्यूजियम स्थानीय व्यवसायों को बढ़ावा देने में मददगार साबित होगा। 

    यूपीसीडा के मुताबिक औद्योगिक क्षेत्रों में जिन 3500 से अधिक उद्योगपतियों ने भूखंड लिए हैं इनमें से तमाम लोगों ने अपनी फैक्ट्री भी राज्य में लगाने की कार्रवाई शुरू कर दी है और कई में तो उत्पादन भी शुरू हो गया है।  हरदोई के संडीला क्षेत्र में आईटीसी लिमिटेड, वरुण बेवरेजेज लिमिटेड (पेप्सिको), बर्जर पेंट्स लिमिटेड, ग्रीन प्लाई इंडस्ट्रीज लिमिटेड, ब्रिटिश पेंट्स लिमिटेड, वेब्ले स्कॉट लिमिटेड, शाहजहांपुर में कृभको फर्टिलाइजर लिमिटेड, कानपुर में प्लास्टिक पैक लिमिटेड, बाराबंकी में एसएमएस जी लिमिटेड (कोका कोला) और आगरा में वॉन वेल्स लिमिटेड अपनी फैक्ट्री लगाने की पहल की है।